69000 शिक्षक भर्ती के सैकड़ों अभ्यर्थियों ने बुधवार कालिदास मार्ग के पास किया प्रदर्शन

शिक्षक भर्ती के सैकड़ों अभ्यर्थियों ने बुधवार कालिदास मार्ग के पास प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारी अभ्यर्थी डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के आवास तक पहुंच गए थे। इस पर पुलिस ने अभ्यर्थियों को सड़क से हटाने का प्रयास किया तो वह वहीं पर लेट गए। तब पुलिस ने लाठियां फटकार कर सभी को वहां से खदेड़ा।

दरअसल 69 हजार शिक्षक भर्ती मामले में 5844 आरक्षण सीटों पर धांधली का आरोप लगाते हुए अभ्यर्थियों द्वारा राजधानी के विभिन्न इलाकों में प्रदर्शन कर नाराजगी जाहिर की जा रही है। अभ्यर्थियों ने मामले की शिकायत बेसिक शिक्षा मंत्री से लेकर केंद्रीय ओबीसी आयोग तक से की लेकिन कहीं सुनवाई नहीं हुई। हर बार उन्हें सिर्फ आश्वासन ही मिला।

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि सरकार ने शिक्षक भर्ती में धांधली करते हुए आरक्षित सीटें अन्य अभ्यर्थियों को दे दी है। इसके विरोध में अभ्यर्थी हाईकोर्ट भी गए, उनका कहना है कि सरकार इस मामले में हाईकोर्ट का आदेश भी नहीं मान रही है। इसी के चलते अभ्यर्थियों को सीएम आवास के समक्ष प्रदर्शन करने के लिए मजबूर होना पड़ा।

गौतमपल्ली इंस्पेक्टर रत्नेश सिंह ने बताया कि बुधवार सुबह शिक्षक भर्ती के अभ्यर्थियों ने सीएम आवास के पास प्रदर्शन करने का प्रयास किया था, लेकिन पुलिस ने सभी को रास्ते में ही रोक लिया था।

इंस्पेक्टर का कहना है कि डिप्टी सीएम के आवास के सामने प्रदर्शनकारी पहुंच नहीं पाए थे, उन्हें पहले ही रोक लिया गया था। उनको बताया गया कि प्रदर्शन करने के लिए इको गार्डन को निर्धारित किया गया है, ऐसे में ही वही जाकर प्रदर्शन करें और संबंधित अधिकारियों को ज्ञापन दें। पाकी जो भी मांग है उसका कोई समुचित हल निकल सके।

पुलिस और एलआईयू को भनक तक न लगी
इतनी बड़ी संख्या में शिक्षक भर्ती के अभ्यर्थी बुधवार को कालिदास मार्ग तक पहुंच गए और पुलिस या एलआईयू को इसकी भनक तक नहीं लगी। इसे बड़ी चूक माना जा रहा है।