यूपी बोर्ड की परीक्षा की होगी वेब कास्टिंग

प्रतापगढ़ : यूपी बोर्ड की हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट की परीक्षा की वेब कास्टिंग का¨स्टग कराई जाएगी। इसके लिए केंद्र व्यवस्थापकों को सारी व्यवस्थाएं दुरुस्त कराने को डीआइओएस ने एक सप्ताह का समय दिया है।

वर्ष 2020 की हाई स्कूल एवं इंटर की परीक्षा में कुल एक लाख 19 हजार 719 परीक्षार्थियों के लिए 199 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। इनमें से पांच राजकीय, 67 सहायता प्राप्त तथा 127 वित्तविहीन विद्यालय शामिल हैं। इस बार बोर्ड की हाईस्कूल एवं इंटर की परीक्षाएं 18 फरवरी से शुरू होकर छह मार्च तक चलेंगी। डीआइओएस सर्वदानंद ने जनपद के समस्त राजकीय, सहायता प्राप्त, मान्यता प्राप्त ऐसे माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाचार्यों को निर्देशित किया है कि वर्ष 2020 की परीक्षाओं के लिए निर्धारित परीक्षा केंद्रों पर आवंटित छात्र संख्या के अनुरूप आवश्यक भौतिक संसाधनों की व्यवस्था तत्काल कर ली जाए। इनमें सीसीटीवी, वायस रिकार्डर, राउटर, ब्राडबैंड कनेक्शन, स्ट्रांग रूम, अग्निशमन उपकरण, विद्युत,जनरेटर व्यवस्था, एक कंप्यूटर सिस्टम एवं दो दक्ष कंप्यूटर आपरेटर, फर्नीचर, पेयजल, स्वच्छ शौचालय (बालक/बालिका) आदि का परीक्षण करा लें। जिन परीक्षा केंद्रों पर वायस रिकार्डर के साथ दोनों ओर सीसीटीवी कैमरा, राउटर, ब्राडबैंड कनेक्शन नहीं लगे हैं। प्रत्येक दशा में एक सप्ताह के अंदर व्यवस्थाएं दुरुस्त करा लें। परीक्षा केंद्रों पर राउटर लगाए जाने के बाद केंद्र व्यवस्थापकों द्वारा पारदर्शितापूर्ण परीक्षा संचालन की वेबका¨स्टग व्यवस्था की जायेगी।

ये भी पढ़ें : इंटर में एक विषय में ही दे सकेंगे कंपार्टमेंट परीक्षा

यूपी बोर्ड की हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट के परीक्षार्थियों की प्रयोगात्मक परीक्षाएं 30 दिसंबर से 13 जनवरी 2020 तक द्वितीय चरण में होंगी। इस बार प्रयोगात्मक परीक्षा लेने से पहले परीक्षक को विद्यालय के मुख्य प्रवेश द्वार पर खड़े होकर सेल्फी लेकर क्षेत्रीय कार्यालय को भेजनी होगी। प्रयोगात्मक परीक्षाएं शुचितापूर्ण ढंग से परीक्षकों द्वारा सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में आयोजित होंगी। परीक्षा की सीसीटीवी फुटेज, वीडियो रिकार्डिंग, मोबाइल रिकार्डिंग की क्लिप विद्यालय में सुरक्षित रखी जाएंगी। हाईस्कूल की प्रयोगात्मक परीक्षा (आंतरिक मूल्यांकन) नैतिक योग, खेल एवं शारीरिक शिक्षा तथा इंटरमीडिएट की नैतिक योग, खेल एवं शारीरिक शिक्षा की परीक्षा विद्यालय द्वारा आंतरिक ली जाएगी। डीआइओएस सर्वदानंद ने बताया कि परीक्षक द्वारा सेल्फी लेते समय यह ध्यान रखना होगा कि जहां से सेल्फी ली जा रही हो उसमें विद्यालय का नाम भी दिखे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.