प्राचार्य पद पर ज्वाइन न करने पर प्रतीक्षा सूची के अभ्यर्थियों की होगी नियुक्ति

  

uphescउत्तर प्रदेश के अशासकीय सहायता प्राप्त महाविद्यालयों में प्राचार्य भर्ती नियुक्ति प्रक्रिया पूरी हो गई। लेकिन कुछ अभ्यर्थियों ने अभी तक संबंधित महाविद्यालय में प्राचार्य का पद नहीं ग्रहण किया है। इस पर उच्च शिक्षा निदेशक डॉ. अमित भारद्वाज ने पत्र जारी कहा कि कहा है कि 15 जनवरी तक पद न ग्रहण करने पर प्रतीक्षा सूची से चयनित अभ्यर्थियों को नियुक्ति देने की प्रक्रिया पूरी की जाएगी।

उत्तर प्रदेश उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग ने 28 फरवरी 2019 को अशासकीय सहायता प्राप्त महाविद्यालयों में प्राचार्य के 290 पदों पर भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किया था। इस विज्ञापन के तहत प्राचार्य पद पर भर्ती के लिए आयोग ने पहली बार लिखित परीक्षा का आयोजन किया था और लिखित परीक्षा में सफल अभ्यर्थियों का इंटरव्यू लेने के बाद अंतिम चयन परिणाम घोषित किया था। 22 अक्तूबर को नवनियुक्त प्राचार्यों की ऑनलाइन व्यवस्था एनआईसी के माध्यम से पूर्ण की गई थी।

कुछ नव चयनित प्राचार्यों ने संबंधित महाविद्यालय में पदभार ग्रहण नहीं किया। महाविद्यालय प्रबंध तंत्र ने कार्यभार ग्रहण किए जाने के लिए अतिरिक्त समय भी दिया गया। इसके बाद भी तमाम प्राचार्यों ने अभी तक पदभार ग्रहण नहीं किया है। ऐसे में नवनियुक्त प्राचार्यों को 15 जनवरी तक संबंधित महाविद्यालय में कार्यभार ग्रहण का एक और मौका दिया गया है। इसके बाद भी पदभार ग्रहण न करने पर प्रतीक्षा सूची में चयनित अभ्यर्थियों को आसन व्यवस्था करने की कार्रवाई होगी।

You may Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *