यूपीपीएससी का वार्षिक कैलेंडर गड़बड़ाया

उप्र लोकसेवा आयोग (यूपीपीएससी) वार्षिक व छमाही परीक्षा कैलेंडर जारी करता आ रहा है लेकिन, शायद ही ऐसा कोई परीक्षा कैलेंडर रहा हो जिसके अनुरूप परीक्षाएं करा ली गई हों। कई वर्ष बाद जुलाई 2019 से आयोग में ऐसे हालात बने कि परीक्षाएं तय समय पर ही होना शुरू हुआ और परिणाम भी निरंतर जारी हुए। यह क्रम अब कोविड-19 संकट की वजह से टूट गया है। आयोग ने पहले मार्च में प्रस्तावित साक्षात्कार स्थगित किए और फिर एक-एक करके चार लिखित परीक्षाएं भी स्थगित कर दी है। इससे पूरा वार्षिक कैलेंडर गड़बड़ा गया है, लॉक डाउन खत्म होने के बाद दूसरे छमाही कैलेंडर में कई बदलाव करने पड़ेंगे।

यूपीपीएससी की ओर से आयोजित की जाने वाली भर्ती परीक्षाओं का पूरा कैलेंडर पटरी से उतर गया है। लिखित परीक्षा, साक्षात्कार, प्रमाणपत्र सत्यापन आदि सब स्थगित करना पड़ा है। आयोग ने सबसे पहले 22 मार्च को प्रस्तावित खंड शिक्षाधिकारी (बीईओ) और पांच अप्रैल को प्रस्तावित कंप्यूटर सहायक भर्ती परीक्षा को स्थगित किया था। इसके बाद पीसीएस 2019 की मुख्य परीक्षा 20 अप्रैल से प्रस्तावित थी उसे स्थगित कर दिया गया। पेपर लीक के विवाद के बाद आयोग ने 14 जनवरी 2020 को 27 नवंबर 2016 को हुई आरओ-एआरओ प्री 2016 परीक्षा को निरस्त कर दिया था। तय हुआ था कि प्री में शामिल हुए 203261 परीक्षार्थियों की तीन मई को फिर से परीक्षा ली जाएगी। लेकिन, इस परीक्षा को भी स्थगित कर दिया गया है। परीक्षा की अगली तारीख बाद में घोषित की जाएगी। समीक्षा अधिकारी (आरओ-एआरओ) भर्ती 2017 के अभ्यर्थियों के अभिलेख का सत्यापन भी टाल दिया है। वहीं, पीसीएस जे-2018 के अभ्यर्थियों को कॉपियां भी नहीं दिखाई जा रही हैं। ऐसे ही प्राविधिक शिक्षा विभाग, चिकित्सा शिक्षा विभाग व प्रवक्ता भूगोल के लिए होने वाले साक्षात्कार को स्थगित किया जा चुका है। आयोग को अब नए परीक्षा कैलेंडर में इन परीक्षाओं को स्थान देना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.