शिक्षकों को प्रतिनियुक्ति लेगा शिक्षा विभाग

प्रदेश के राजकीय माध्यमिक विद्यालय एंड अन्तर कॉलेजेस में चल रही शिक्षकों की कमी को करने के लिए बेसिक शिक्षा परिषद ने स्कूलों में शिक्षकों को प्रतिनियुक्ति पर लेने का मन है। इस प्रक्रिया से स्टूडेंट्स की पढ़ाई पर कोई असर नहीं पड़ेगा। शिक्षकों को प्रतिनियुक्ति पर रखने के लिए शासन स्तर पर भी सहमति बन चुकी है। अब यह देखना है कि अब यह देखना है कि बेसिक शिक्षा विभाग इस पर अपनी कोई आपत्ति तो नहीं देता है अगर बेसिक शिक्षा विभाग की और से माध्यमिक शिक्षा विभाग के इस प्रस्ताव पर कोई आपत्ति नहीं आती है तो फिर कैबिनेट से मंजूरी दिलाने की तैयारी है। राजकीय माध्यमिक विद्यालय और इंटर कॉलेज में एलटी ग्रेड शिक्षक के 9437 और प्रवक्ता के करीब 2600 पद खाली हैं। सरकार की मंशा है कि एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती लोक सेवा आयोग के द्वारा आयोजित राज्य स्तरीय परीक्षा के माध्यम से करायी जाए। इसके लिए शिक्षक नियमावली में संशोधन करना होगा। शिक्षक नियमावली में संशोधन के बाद परीक्षा करा कर शिक्षक भर्ती में समय लगेगा। उधर परिषदीय स्कूल में सरप्लस शिक्षक हैं।

परिषदीय स्कूल में विशिष्ट बीटीसी चयन और 72,825 शिक्षक भर्ती के जरिये बड़ी संख्या में स्नातक और बीएड अर्हताधारी अभ्यर्थी शिक्षक नियुक्त किये गए हैं। ऐसे शिक्षकों की संख्या भी अच्छी खासी है जो परास्नातक और बीएड हैं। वहीं एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती के लिए शैक्षिक अर्हता जहां स्नातक और बीएड है जबकि प्रवक्ता के लिए परास्नातक और बीएड। इसलिए शासन स्तर पर यह सहमति बनी है कि परिषदीय स्कूल के जो शिक्षक यूपी एलटी ग्रेड और प्रवक्ता की शैक्षिक अर्हता रखते हों, यदि वे चाहें तो इसके लिए माध्यमिक शिक्षा विभाग में प्रतिनियुक्ति पर आ सकते हैं। प्रतिनियुक्ति पर आने वाले शिक्षक राजकीय माध्यमिक विद्यालय और इंटर कॉलेज में पढ़ाएंगे। फिलहाल परिषदीय शिक्षकों को एक से अधिकतम दो वर्ष तक प्रतिनियुक्ति पर लेने का इरादा है।

यह मानते हुए कि तब तक एलटी ग्रेड शिक्षक और व्याख्याता भर्ती हो जायेगा। शिक्षकों की प्रतिनियुक्ति की जिला स्तर पर ही होगी। परिषदीय स्कूल को इसके लिए जिलाधिकारी की अध्यक्षता में गठित समिति के सामने आवेदन करना होगा। समिति उनकी शैक्षिक अर्हता का परीक्षण व अन्य औपचारिकताएं पूरी कर उन्हें राजकीय माध्यमिक विद्यालयों में प्रतिनियुक्ति पर तैनात करेगी।.

यदि आवेदन करने वाले परिषदीय टीचर्स की संख्या जिले के राजकीय माध्यमिक विद्यालय में रिक्त पदों से ज्यादा होगी, तो अतिरिक्त शिक्षकों को उसी मंडल के अन्य जिले में प्रतिनियुक्ति पर भेजा जाएगा। इसके लिए मंडलायुक्त की अध्यक्षता में समिति होगी जो ऐसे शिक्षकों के आवेदनों पर विचार करेगी। प्रतिनियुक्ति की अवधि समाप्त होने पर परिषदीय शिक्षकों को उनके मूल विद्यालय में भेजा जाएगा।

यदि समुचित संख्या में परिषदीय शिक्षक प्रतिनियुक्ति पर नहीं उपलब्ध होते हैं, तो माध्यमिक शिक्षा विभाग राजकीय और अशासकीय सहायताप्राप्त माध्यमिक विद्यालयों के retired teachers की सेवाएं लेगा जिन्हें इसके लिए मानदेय दिया जाएगा। Rajkiya Madhyamik Vidyalaya

287 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.