मांगों को लेकर गरजे प्राथमिक विद्यालयों के शिक्षक

इलाहाबाद : विभिन्न मांगों को लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ का दो दिवसीय धरना मंगलवार को शुरू हुआ। शहर एवं ग्रामीण अंचलों के प्राथमिक विद्यालयों के शिक्षक अवकाश लेकर प्रदर्शन स्थल पर उपस्थित रहे। सर्वशिक्षा अभियान कार्यालय मम्फोर्डगंज में आयोजित इस कार्यक्रम में शिक्षक कल्याण की योजनाओं पर चर्चा की गई।

धरना स्थल पर जुटे शिक्षकों की प्रमुख मांगों में पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू करना, रिक्त पदों पर शीघ्र पदोन्नति, अंतरजनपदीय स्थानांतरण की समयावधि एक वर्ष में करना, शिक्षक पदों का सृजन 31 जुलाई के छात्र संख्या को आधार बनाकर करना, शिक्षकों को राज्य कर्मचारियों की भांति कैशलेस मेडिकल सुविधाएं उपलब्ध कराना, मृतक आश्रितों को शिक्षक पद पर सीधी नियुक्ति, विद्यालयों में पेयजल, फर्नीचर, चारदिवारी, बिजल शौचालय आदि की समुचित व्यवस्था करना शामिल है।

यह भी पढ़ेंः  31277 नवनियुक्त शिक्षकों को मिले विद्यालय

इसके अतिरिक्त यूनिफार्म के मद में महंगाई के अनुसार वृद्धि करना, सरकार द्वारा जारी विभिन्न येाजनाओं का लाभ दिलाने की भी मांग की। वेतनमान की विसंगतियों का भी मुद्दा उठाया। संचालन जिलामंत्री चिंतामणि त्रिपाठी ने किया। अध्यक्षता देवेंद्र श्रीवास्तव ने की। धरना प्रांतीय संघ के आह्वान पर प्रदेश के विभिन्न जिलों में आयोजित किया जा रहा है। दो दिवसीय धरने के क्रम में बुधवार को जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को अपनी मांगों का पत्र भेजे जाएंगे। इस अवसर पर शिवबहादुर सिंह, अर्चना मिश्र, अमर सिंह, राजेंद्र कुशवाहा, सरोज सिंह, मसूद अहमद, मो. तैयब, राजेंद्र कनौजिया, हरित जेटली, बहार आलम, रवींद्र सिंह, अदीबा खातून, विजय यादव, प्रेमचंद्र आदि रहे।

यह भी पढ़ेंः  प्रदेश में शिक्षकों लिए भी टीकाकरण के लिए विशेष बूथ बनाए जाएंगे

सर्वशिक्षा अभियान कार्यालय पर प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रदर्शन कार्यक्रम में बोलते जिलामंत्री चिंतामणि त्रिपाठी और प्रदर्शन में जुटे शिक्षक-शिक्षिकाएं।

सरकार को पुरानी पेंशन व्यवस्था के तहत नियम लागू करन चाहिए। इसके माध्यम से शिक्षकों को अधिक से अधिक लाभ होगा। – शैलेंद्र यादव

यदि प्राथमिक शिक्षकों को बेहतर चिकित्सीय सुविधा मिलेगी, वह बेहतर तरीके से पढ़ा पाएंगे। सरकार को इसमें पहल करनी चाहिए। – हरित जेदली

सरकार द्वारा जारी योजनाएं जैसे समाजवादी, वृद्धा पेंशन, राशन हेतु बीपीएल कार्ड आदि का लाभ, बच्चों की उपस्थिति के आधार पर अभिभावकों को दिया जाए। – देवंद्र श्रीवास्तव

1सातवें वेतनमान की निर्धारण में कमी को दूर किया जाए, वेतनमान में विसंगति के कारण शिक्षकों को मानसिक कष्ट ङोलना पड़ता है। – किरन सिंह

यह भी पढ़ेंः  अध्यापकों की उपस्थिति जानने के लिए अयोध्या फैज़ाबाद में कन्ट्रोल रूम स्थापित किया गया

पेपरलेस और आकास्मिक अवकाश की व्यवस्था का विरोध किया जाएगा। रुकी हुई पदोन्नतियां भी कर दी जाएं। 1अर्चना मिश्र1विद्यालय का निरीक्षण के केवल उच्च ग्रेड के अधिकारियों के माध्यम से किया जाए। निरीक्षण में विसंगतियों के मूल पर चर्चा, शिक्षकों की समस्याओं के निस्तारण के लिए विशेष प्रकोष्ठ बने। -मनीष ंिसंह’>>मांगों को लेकर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ का धरना शुरू  डीएम के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजेंगे मांगों का पत्र

You may Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.