अंतरजनपदीय स्थानांतरण नीति के वर्तमान नियम को बताया अव्यवहारिक

  

महराजगंज : शासन ने परिषदीय स्कूल शिक्षकों के अन्तर जनपदीय तबादलों के लिए समय सारिणी जारी कर दी है। इस स्थानांतरण निति का लाभ वही शिक्षक उठा सकते है जिनकी न्यूनतम सेवा की अवधि पांच वर्ष हो। बहुत शिक्षक चहा कर भी अपना तबादला नहीं करा सकते। रविवार को सदर बीआरसी में उत्तर प्रदेश टेट प्राथमिक शिक्षक एसोसिएशन की बैठक आयोजित की गई। एसोसिएशन की बैठक को संबोधित करते उत्तर प्रदेश टेट प्राथमिक शिक्षक एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष महेंद्र वर्मा कहा कि शासन ने स्थानांतरण के लिए न्यूनतम सेवा की अवधि पांच वर्ष रख कर अव्यवहारिक निर्णय लिया है। उन्होंने कहा अगर स्थानांतरण नीति में बदलाब नहीं किया हुआ तो टेट प्राथमिक शिक्षक एसोसिएशन वृहद आंदोलन को बाध्य होगा।

एक वर्ष पूर्व ही अंतर जनपदीय स्थानांतरण हुआ था, जिले में तीन वर्ष की सेवा पूर्ण करने वाले जिन शिक्षकों ने आवेदन किया था सबका स्थानांतरण हो गया। बैठक में आगे बोले हुए जिलाध्यक्ष महेंद्र वर्मा कहा कि यदि शासन की निति के अनुसार स्थानांतरण हुआ तो जिले के बहुत कम शिक्षकों को इसका लाभ मेलगा। वरिष्ठ उपाध्यक्ष अरविंद यादव ने बताया कि अगर स्थानांतरण नीति में न्यूनतम सेवा अवधि कम नहीं की गई तो संगठन जिले से लेकर प्रदेश स्तर तक वृहद आंदोलन करेगा। शिक्षक हित को देखते हुए न्यूनतम सेवा काल महिलाओं के लिए एक वर्ष तथा पुरुषों के लिए दो वर्ष किया जाए। इस दौरान प्रणव द्विवेदी, शिवेंद्र श्रीवास्तव, शीतल मिश्र, चंद्रशेखर सिंह, राकेश अग्रहरी आदि मौजूद रहे।