संवेदनशील परीक्षा केंद्रों पर तैनात होगी एसटीएफ

यूपी बोर्ड-2020 की 10वीं और 12वीं की परीक्षा नकल विहीन कराने के लिए राजधानी के 112 केंद्रों में से संवेदनशील और अति संवेदनशील केंद्रों पर एसटीएफ तैनात की जाएगी। पहले से ही जिलाधिकारी, एसएसपी, शिक्षा विभाग के अधिकारी और पुलिस अधिकारी इन केंद्रों का दौरा कर खाका तैयार करेंगे।

एलआइयू भी परीक्षा से पूर्व ही इन केंद्रों पर पैनी नजर रखेगा। परीक्षा के दौरान केंद्रों के 100 मीटर के दायरे में धारा 144 लगी रहेगी। डीआइओएस डॉ. मुकेश कुमार सिंह ने बताया कि अधिकारियों के साथ बैठक कर नकल विहीन परीक्षा कराए जाने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं। जिले में कुल 112 केंद्रों पर कड़ी निगरानी में परीक्षाएं कराई जाएंगी। हालांकि, अभी संवेदनशील और अति संवेदनशील केंद्रों की सूची तैयार की जा रही है।

अति संवेदनशील परीक्षा केंद्रों की जिम्मेदारी स्टैटिक मजिस्ट्रेट पर: संवेदनशील और अति संवेदनशील परीक्षा केंद्रों पर स्टैटिक मजिस्ट्रेट तैनात किए जाएंगे। शांतिपूर्ण एवं शुचितापूर्ण परीक्षा कराने की इनकी जिम्मेदारी होगी। नकल विहीन परीक्षा के लिए डीआइओएस एक पेट्रोलिंग टीम गठित करेंगे। इसमें सशस्त्र पुलिसकर्मी और राजकीय विद्यालयों के शिक्षक होंगे। यह टीम केंद्रों का औचक निरीक्षण करेगी।

विद्यार्थियों की सुविधा का रखें ख्याल, जूते-मोजे उतरवाकर कर न लें परीक्षा : जारी आदेश के अनुसार परीक्षार्थियों के जूते-मोजे उतरवाकर परीक्षा न ली जाए। परीक्षा कक्षों में प्रवेश से पहले ही उनके जूते मोजे उतरवाकर चेक कर लिए जाएं, जिससे परीक्षार्थियों को असुविधा न हो और परीक्षा की पवित्रता एवं शुचिता पर कोई प्रश्न चिह्न् न लगे।

ये भी पढ़ें : UP Board Mission Topper: डीआइओएस ने विद्यालयों से मांगी आख्या

कंट्रोल रूम में 15-16 केंद्रों की निगरानी के लिए होंगे दो शिक्षक : कंट्रोल रूम में परीक्षा की निगरानी सीसी कैमरों की मदद से की जाएगी। 15-16 केंद्रों की कंप्यूटर अथवा स्क्रीन पर निगरानी के लिए राजकीय विद्यालय के दो शिक्षक तैनात किए जाएंगे। अगर किसी केंद्र पर सीसी कैमरे के सही तरह से काम न कर रहे हों तो डीआइओएस की मदद से सचल दस्तों को इसकी सूचना दी जाए। इसके साथ ही सचल दस्ते द्वारा उस केंद्र का तत्काल निरीक्षण किया जाए।

इन ¨बदुओं पर रखें ध्यान

  • परीक्षा केंद्रों पर सीसी कैमरे, राउटर और वाइस रिकॉर्डर अवश्य होना चाहिए
  • वेब कास्टिंग द्वारा पारदर्शितापूर्ण नकल विहीन परीक्षा के लिए केंद्रों की निगरानी
  • छात्रों का सिटिंग प्लान अनुक्रमांक के आधार पर क्रमानुसार मिश्रित बनाया जाए
  • केंद्रों के आस-पास बाहरी लोगों को इकट्ठा न होने दें, 100 मीटर की परिधि में धारा-144 का पालन कराया जाएगा
  • सचल दस्ते द्वारा विशेष रूप से ध्यान रखें कि शांतिपूर्वक परीक्षा दे रहे किसी परीक्षार्थी को अनावश्यक तंग न करें
  • परीक्षा के समय किसी व्यक्ति द्वारा परीक्षा के संबंध में परीक्षा व्यवस्था में लगे किसी कर्मचारी को धमकी दी जाए तो उसके खिलाफ तत्काल कार्रवाई करें
  • सचल दल में तैनात पुरुष सदस्य द्वारा बालिकाओं की तलाशी नहीं ली जाएगी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.