यूपी बोर्ड परीक्षा का आगाज से, 56.07 लाख परीक्षार्थी देंगे

यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट 2020 की परीक्षाएं आज से शुरू हो रही है. परीक्षा का आयोजन दो पालियों में किया जा रहा है. परीक्षा में 56.07 लाख परीक्षार्थी शामिल होंगे। परीक्षा पर पेनी नजर रखने के लिए पहली बार 1.90 लाख कैमरों की मदद से वेबकॉस्टिंग की जाएगी यानि अलीगढ जिले के किसी गांव के परीक्षा केन्द्र को लखनऊ में बैठकर देखा जा सकेगा। प्परीक्षा की वेबकॉस्टिंग के लिए लखनऊ और प्रयागराज में राज्यस्तरीय कंट्रोलरूम बनाया गया है। दूसरी तरफ, परीक्षा स्पेशल बसों को उप मुख्यमंत्री डा दिनेश शर्मा ने सोमवार को हरी झण्डी दिखा कर रवाना किया।

माध्यमिक शिक्षा विभाग की प्रमुख सचिव आराधना शुक्ला ने सोमवार को देर शाम को राजधानी लखनऊ में स्थित कंट्रोल रूम का निरीक्षण कर तैयारियों का जायजा लिया। यूपी बोर्ड परीक्षाओं को नकलमुक्त रखने के लिए करीब 700 संवेदनशील और 275 अतिसंवेदनशील परीक्षा केन्द्रों पर खास नजर राखी जाएगी। लखनऊ स्थित कंट्रोल रूम में 60 मॉनिटर लगाए गए हैं। वहीं राज्य के हर जनपद में भी कंट्रोल रूम बनाये गए है जहां जिलाधिकारी द्वारा नामित प्रशासनिक अधिकारी तैनात किया गया है। यूपी बोर्ड की हाईस्कूल की परीक्षा 3 मार्च और इंटरमीडिएट की परीक्षा 6 मार्च को खत्म होगी और इसका रिजल्ट 25 अप्रैल तक जारी किए जाने की संभावना है।

संवेदनशील जिलों में खास इंतजाम
नक़ल के लिए संवेदनशील जनपदों में सिली हुई कॉपियां भेजी गई हैं। इस बार उत्तर पुस्तिकाएं चार रंगों में हैं. बोर्ड परीक्षा की कॉपियां गुलाबी, पीले, हरे व नीले रंग की होंगी। वहीं इस बार उत्तरपुस्तिकाओं पर क्रमांक भी दर्ज होगा ताकि बाहरी कॉपियों से इन्हें बदला न जा सके।

“बोर्ड परीक्षार्थियों को परीक्षा के लिए शुभकामनाएं। परीक्षार्थी शांत मन से परीक्षा देने जाए। यूपी सरकार नकलमुक्त परीक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। परीक्षार्थियों के लिए बस सेवा भी उपलब्ध कराई जा रही है।” डा दिनेश शर्मा, उप मुख्यमंत्री

परीक्षा में जाने से पहले ध्यान रखें ये 5 बातें-
1. बोर्ड परीक्षा के पहले दिन परीक्षार्थियों को आधे घंटे पहले परीक्षा केंद्र पर प्रवेश दिया जाएगा। उसके बाद परीक्षा से 15 मिनट पहले प्रवेश दिया जाएगा।
2. परीक्षार्थी यूपी बोर्ड द्वारा जारी प्रवेश पत्र, हाईस्कूल के छात्र कक्षा-9 व इण्टरमीडिएट के छात्र कक्षा-11 का रजिस्ट्रेशन कार्ड ले जाएं।
3. परीक्षार्थी आधारकार्ड या सरकार द्वारा जारी अन्य कोई पहचान पत्र अपने साथ ले जाएं।
4. परीक्षार्थी आवश्यकतानुसार पारदर्शी पेंसिल बाक्स व पानी की बोतल भी ले जा सकते हैं।
5. परीक्षार्थी मोबाइल, हेडफोन, कैलकुलेटर, स्मार्ट वाच, बैग या परीक्षा को प्रभावित करने वाले अन्य इलेक्ट्रानिक यन्त्र न ले जाएं

आंकड़ों की नजर में परीक्षा
56,07,118  लाख परीक्षार्थी
30,22,607 हाईस्कूल के परीक्षार्थी
25,84,511 इंटरमीडिएट के परीक्षार्थी
7784 परीक्षा केन्द्र
1.88 लाख कक्ष निरीक्षक
190000 सीसीटीवी कैमरे
1314 सेक्टर मजिस्ट्रेट
2950 स्टैटिक मजिस्ट्रेट
75 कंट्रोल रूम सभी जिलों में
-यूपी बोर्ड परीक्षा के मद्देनजर परीक्षा स्पेशल बस सेवा की शुरुआत
-परीक्षा केन्द्रों के पास एम्बुलेंस के इंतजाम

नकलविहीन परीक्षा के लिए निर्देश

  • अति संवेदनशील बोर्ड परीक्षा केंद्रों पर सशस्त्र बल और आवश्यकतानुसार एसटीएफ तैनात
  • निर्धारित संवेदनशील/अतिसंवेदनशील यूपी बोर्ड परीक्षा केंद्रों के केंद्र व्यवस्थापक आवश्यक समझें तो उसकी निगरानी एलआईयू से कराएं
  • यूपी बोर्ड परीक्षा केंद्र पर नियुक्त कक्ष निरीक्षक पहचान पत्र सहित आधार कार्ड के साथ ड्यूटी करेंगे
  • यूपी बोर्ड परीक्षा केंद्र के आस-पास ध्वनि विस्तारक यंत्रों का प्रयोग प्रतिबंधित रहेगा, एक सेक्टर में 10 से 12 परीक्षा केंद्र

नकल की शिकायत कंट्रोल रूम पर दर्ज होगी। बोर्ड कार्यालय में स्थापित कंट्रोल रूम के फोन नंबर

0532-2622767, 2623182 और 2623139 पर 24 घंटे शिकायत दर्ज होगी। इसके अलावा ई-मेल आईडी [email protected] और टोल फ्री नंबर 18001806607 पर भी शिकायत की जा सकती है।

ट्विटर पर सक्रिय रहेंगे अफसर
विभागीय अधिकारीयों को ट्विटर पर सक्रिय रहने को कहा गया है। सभी जिलों में व्हाट्सएप ग्रुप भी बनाया गया है ताकि सूचनाओं का आदान-प्रदान तेजी से हो सके। यहां पर आई शिकायतों का निस्तारण हो सके.

जेल में निरुद्ध 223 बंदी भी देंगे परीक्षा
प्रदेश की विभिन्न जेलों में बंद 223 बंदी भी 2020 की बोर्ड परीक्षा में शामिल होंगे। हाईस्कूल में 113 और इंटर में 110 बंदियों ने पंजीकरण कराया है। इनके लिए जेल में ही परीक्षा देने का इंतजाम किया है.

ये भी पढ़ें : राजकीय शिक्षक यूपी बोर्ड परीक्षा का नहीं करेंगे बहिष्कार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.