प्रदेश के नए व पुराने सभी शिक्षकों को 2 दिन ट्रेनिंग दी जाएगी, रिमेडियल टीचिंग पैकेज तथा गणित किट पर आधारित होगा प्रशिक्षण

उत्‍तर प्रदेश के सरकारी प्राइमरी स्कूलों के शिक्षकों को ट्रेनिंग में दोपहर का भोजन दिया जाएगा। सूबे के 4,80,725 शिक्षकों के दो दिवसीय प्रशिक्षण में भोजन पर लगभग 14.42 करोड़ रुपए खर्च होगा। प्रदेश के नए व पुराने सभी शिक्षकों को 2 दिन ट्रेनिंग दी जाएगी। ट्रेनिंग एक से 28 फरवरी के बीच प्रदेश भर में होगी।

राज्य परियोजना कार्यालय लखनऊ एवं सीमैट प्रयागराज के प्रशिक्षित संदर्भ दाता प्रशिक्षण देंगे। इस बार ट्रेनिंग में शिक्षकों को दोपहर का लंच भी मिलेगा। शासन ने एक शिक्षक के प्रति दिन के भोजन, चाय व स्नैक्स के लिए 150 रुपए का बजट निर्धारित किया है। इसमें से 130 रुपए दोपहर के भोजन, दो बार चाय तथा स्नैक्स पर खर्च होगा। जबकि 20 रुपए प्रतिभागियों के प्रशिक्षण स्टेशनरी पर खर्च किया जाएगा। प्रदेशभर में प्राइमरी स्कूलों में कुल 480725 शिक्षक हैं। इनमें से 32618 तथा 28320 नए शिक्षक हैं। इन सभी को भी 2 दिन की ट्रेनिंग दी जाएगी।

रिमेडियल टीचिंग पैकेज तथा गणित किट पर आधारित होगा प्रशिक्षण
कोविड-19 की वजह से इस बार बच्चों की पढ़ाई नहीं हो पाई है। यूं कहा जाए तो कुछ बच्चों को छोड़कर बाकी बच्चे पढ़ाई नहीं कर सके हैं। स्कूल खुलने पर इन बच्चों को रिमेडियल पढ़ाई होगी है। इस 2 दिन की ट्रेनिंग में शिक्षकों को मिशन प्रेरणा के अंतर्गत संचालित गतिविधियों, प्रेरणा लक्ष्य, प्रेरणा तालिका, प्रेरणा सूची, समय सारणी, हस्त पुस्तिकाएं प्रस्तुतीकरण सहित तमाम चीजों के बारे में प्रशिक्षित किया जाएगा। कक्षा में गणित किट का प्रयोग कैसे करें, सहज पुस्तिका का प्रयोग, प्रिंट रिच सामग्री का परिचय एवं कक्षा शिक्षण में इसके प्रयोग की विधि सहित तमाम माड्यूल पर चर्चा होगी। महानिदेशक विजय किरन आनंद ने इसके लिए आदेश जारी कर दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.