टीईटी मनोविज्ञान की संशोधित उत्तरकुंजी में गुपचुप बदलाव

इलाहाबाद: यूपी शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी यूपी टीईटी 2017 की संशोधित उत्तरकुंजी में एक प्रश्न का उत्तर बदल दिया गया है। परीक्षा कार्यालय ने संशोधित उत्तर कुंजी जारी करते समय इस प्रश्न के उत्तर में परिवर्तन का जिक्र तक नहीं किया। परीक्षार्थी ने इसकी लिखित शिकायत कार्यालय में की है। साथ ही अल्टीमेटम दिया है कि यदि सुधार न किया गया है तो वह इसे हाईकोर्ट में चुनौती देगा, क्योंकि एक अंक से वह चयन से बाहर हो सकता है। यूपी टीईटी 2017 की उत्तर कुंजी जारी होने के बाद तमाम अभ्यर्थियों ने कई सवालों के उत्तर पर आपत्तियां की थी, लेकिन विशेषज्ञों ने सारी आपत्तियां दरकिनार करके सिर्फ उर्दू व संस्कृत के दो प्रश्नों के चारों विकल्प सही नहीं माने। इसी आधार पर परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव डाॅ। सुता सिंह ने पिछले दिनों संशोधित उत्तरकुंजी जारी करते समय यह दावा किया कि दो सवालों के जवाब बदले गए हैं, लेकिन अब कीडगंज इलाहाबाद की परीक्षार्थी कमलजीत कौर ने सनसनीखेज दावा किया है। बाल मनोविज्ञान की प्रश्न संख्या 22 श्रृंखला ’डी’ में छह नवंबर को जारी संशोधित उत्तर कुंजी में परिवर्तन कर दिया गया है।

पहले जारी उत्तरकुंजी में प्रश्न का जवाब सही था, लेकिन अब उसे बदलकर गलत जवाब को सही करार दिया गया है। कौर ने इसकी लिखित शिकायत परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय में की है साथ ही कई किताबों के साक्ष्य भी उन्हें सौंपे हैं। यही नहीं कौर ने दोनों उत्तरकुंजी की कॉपी भी कार्यालय को मुहैया कराई है। अभ्यर्थी का कहना है कि यह बदलाव गुपचुप तरीके से क्यों किया गया, यह उसकी समझ में नहीं आ रहा है, लेकिन इससे तमाम परीक्षार्थी सही जवाब देने के बाद भी अर्हता परीक्षा उत्तीर्ण करने से चूक सकते हैं। पहले विकल्प एक सही था, उसे बदलकर विकल्प तीन कर दिया गया है। वहीं, कौर ने यह भी कहा कि यदि उत्तरकुंजी का जवाब बदला नहीं गया तो वह हाईकोर्ट का सहारा लेगी। उसने यह भी कहा कि कार्यालय की ओर से कहा जा रहा है कि उत्तरकुंजी पर कोई आपत्ति नहीं आई है, जबकि वह कई दिन पहले ही इसकी शिकायत कर चुकी है। वहीं, कार्यालय ने इस मामले की जांच कराकर कार्रवाई करने का भरोसा दिया है। TET Banovigyan

26 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.