स्कूलों में तहरी तो मिल रही पर दूध नहीं

मुरादाबाद : बेसिक शिक्षा विभाग मिड-डे मील की वजह से हर दिन चर्चा में रहता है। कहीं एक लीटर दूध में पानी मिला कर 84 बच्चों में बांट दिया जाता है, तो कहीं खाने में चूहा निकल आता है। इस बीच मुरादाबाद की भी कुछ ऐसी ही कहानी है। यहां के प्राथमिक विद्यालय चटकाली में पानी मिला दूध तो छोड़िए बच्चों को महीनों से दूध बांटा ही नहीं गया। दैनिक जागरण की टीम ने बुधवार को प्राथमिक विद्यालयों का दौरा किया तो यह हकीकत सामने आयी।

दैनिक जागरण की टीम 11 बजकर 50 मिनट पर डिलारी ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय चटकाली पहुंची। यहां बच्चे बाहर खेलते हुए मिले, प्रधानाचार्य राजेश कुमार ने बताया मिड-डे मील बंट चुका है। लेकिन, सैंपल दिखा नहीं सके। बच्चों से पूछने पर पता चला कि खाने में मैन्यू के हिसाब से तहरी का वितरण किया गया था।

महीनों से नहीं बंट रहा दूध : दैनिक जागरण की टीम ने जब यहां पढ़ने वाले बच्चों से बात की तो पता चला कि दूध की उपलब्धता आज ही नहीं, महीनों से विद्यालय में दूध ही नहीं बंटा है। प्रधानाध्यपक राजेश कुमार ने दावा किया बच्चों को दूध बांटा गया है।

ठीक मिली व्यवस्था : दैनिक जागरण की टीम 12 बजकर 30 मिनट पर कंपोजिट विद्यालय मोहब्बत पुर पहुंची। यहां बच्चों को मिड-डे मील बांटा जा रहा था। जबकि दूध का वितरण किया जा चुका था। टीम को यहां पर मिड-डे मील की व्यवस्था ठीक मिली।

प्रा. विद्यालय चटकाली में अगर बच्चों ने दूध नहीं बांटे जाने की बात कही है तो वह सच ही बोले होंगे। पूरे प्रकरण की जांच कराई जाएगी। प्रधान से पता किया जाएगा कि दूध की उपलब्धता क्यों नहीं हो पा रही है। जांच सही निकलने पर बजट में कटौती की जाएगी। अरुण कुमार, खंड शिक्षा अधिकारी, डिलारी

यह बेहद ही निंदनीय बात है कि बच्चों में दूध का वितरण नहीं किया गया। इसकी जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी। योगेंद्र कुमार, बेसिक शिक्षा अधिकारी