शिक्षक भर्ती प्रक्रिया अंतिम दौर में – डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा

मेरठ यूपी के डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने कहा है कि प्रदेश के स्कूलों में शिक्षकों के खाली पदों पर नवंबर तक भर्ती पूरी कर ली जाएगी। जीआईसी में 14562 शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया अंतिम दौर में है। पढ़ाई न कराने वाले स्कूलों की सूची तैयार कराई गई है। परीक्षा के दौरान नकल होने पर स्कूल की मान्यता खत्म करने पर भी विचार होगा। केवल सीसीटीवी और बायोमीट्रिक से लैस स्कूल ही बोर्ड एग्जाम में सेंटर बनेंगे। उन्होंने व्यावयासिक शिक्षकों के मानदेय में बढ़ोतरी का भी एलान किया। एनसीईआरटी की किताबों के साथ गाइड देने वाले प्रकाशक पर शिकंजा कसा जाएगा।

डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा शनिवार को मेरठ में कई कार्यक्रम में शिरकत करने आए थे। इस दौरान उन्होंने ये बातें कहीं। मेरठ के एनएएस कॉलेज में माध्यमिक शिक्षक संघ के राज्य सम्मेलन में बतौर मुख्य अतिथि दिनेश शर्मा ने कहा कि पहले जहां दो से ढाई महीने में बोर्ड परीक्षाएं होती थीं, उसे एक महीने तक लाया जा सका है। आने वाली बोर्ड परीक्षा 16 से 17 दिनों में ही समाप्त कर मूल्यांकन प्रक्रिया शुरू करने की योजना है।

अनुशासित शिक्षा : कहा कि स्कूलों में 200 दिन की पढ़ाई और 20 दिन के रिवीजन के लिए सुनिश्चित करना हमारा लक्ष्य है। विद्यालयों में शिक्षण व्यवस्था में सुधार के लिए शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया को ठीक किया जा रहा है। पिछले 14 महीनों में सरकार ने 5696 शिक्षकों के पद सृजित किए हैं। इन पदों पर नियुक्ति के साथ ही 12 हजार अन्य पदों पर अक्टूबर नवंबर तक नियुक्ति प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। उन्होंने कहा कि शिक्षकों की समस्याएं दूर करने की हर कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि पेंशन और स्थानांतरण की समस्या को दूर कर दिया गया है।

ऑनलाइन दर्ज हो रही है शिकायतें : शिक्षकों की समस्या के निवारण के लिए ऑनलाइन शिकायत ली जा रही है। 30 जून तक शिक्षक अपनी समस्या सीधे लिख कर भेज सकते हैं। उन्होंने कहा कि व्यावसायिक शिक्षकों के मानदेय में वृद्धि कर दी गई है। इंटरमीडिएट तक पढ़ाने वाले टीचरों को जिन्हें 10000 रुपये मिलते थे अब 15 हजार रुपये मिलेंगे, हाईस्कूल तक पढ़ाने वाले शिक्षकों को जिन्हें 8000 मिलते थे उन्हें 12000 मिलेंगे, प्रति व्याख्यान जिन्हें 350 रुपये मिलते थे उन्हें 500, जिन्हें 250 मिलते थे उन्हें 400 रुपये मिलेंगे। इसके अलावा मॉडल स्कूलों की तर्ज पर बाकी स्कूलों में भी वर्चुअल और स्मार्ट क्लासेज, कंप्यूटर लैब और वाई-फाई की सुविधा देने पर विचार सरकार का है।

छात्रों का हंगामा : एनएएस कॉलेज में शिक्षक संघ के सम्मेलन में दिनेश शर्मा से मिलने और उन्हें ज्ञापन देने की जिद पर छात्र अड़ गए। छात्रों का पुलिस ने डिप्टी सीएम से मिलने नही दिया गया। छात्रों ने नारेबाजी कर हंगामा किया। पुसिल ने कई छात्रों को हिरासत में ले लिया। छात्रों का कहना था कि वह सिर्फ ज्ञापन देना चाहते थे।

पढ़ें- Fake Teacher Recruitment happened in Gonda and Ferozabad

UP deputy CM Dinesh Sharma

18 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *