मिड डे मील की कन्वर्जन कास्ट का शिक्षक नहीं दे पा रहे हिसाब

राजधानी के प्राइमरी स्कूलों के जिन 207512 बच्चों को पिछले वर्ष जुलाई ओर अगस्त में 49 दिन के मिड डे मील की कन्वर्जन कास्ट दी गई थी अब शिक्षक उसका हिसाब नहीं दे पा रहे हैं। करीब 9 महीने बाद भी इसमें से केवल 24441 बच्चों का ही हिसाब बेसिक शिक्षा विभाग को मिल पाया हैं। इस पर शासन और निदेशालय ने कड़ी नाराजगी जताई है। पैसा तो शिक्षक बच्चों के खातों में भेजने की बात कर रहे हैं लेकिन न उनके बैंक खाते का नंबर दे पा रहे हैं और न अन्य जानकारी।

शासन ने पिछले वर्ष लॉकडाउन के बाद स्कूल बंद होने की अवधि के मिड डे मील की कन्वर्जन कास्ट बच्चों के अभिभावकों के बैंक खातों में भेजने का निर्देश दिया था। जुलाई और अगस्त 2020 में 49 दिन की कन्वर्जन कास्ट भेजी गई थी। शिक्षकों को बच्चों के अभिभावकों के बैंक खातों में यह रकम भेजनी थी स्कूलों के हेड और इंचार्ज शिक्षकों को बच्चों के अभिभावकों के बैंक खाते और अन्य विवरण संबंधित बैंकों को उपलब्ध कराने थे। शिक्षकों ने जिनके खाते बैंकों को दिए उनमें पैसा ट्रांसफर हो गया। लेकिन इसका विवरण अभी तक विभाग के पास नहीं है कि किन बच्चों के अभिभावकों के खातों में पैसा भेजा गया। शासन ने पूरा विवरण प्रेरणा पोर्टल पर अपलोड करने का निर्देश दिया था। ताकि विभाग बैंकों और विभाग के आंकड़ों, बैंक खातों का मिलान कर जान सके कि सही बच्चों के खातों में पैसा गया है या नहीं।

बेसिक शिक्षा अधिकारी और एडी बेसिक पीएन सिंह ने 17 मई को आदेश जारी कर 49 दिनों की कन्वर्जन कास्ट का विवरण प्रेरणा पोर्टल पर अपलोड करने का निर्देश दिया। उन्होंने 15 दिनों का समय दिया है। स्कूल 1 लाख 83 हजार 71 बच्चों के अभिभावकों के बैंक खातों का विवरण नहीं दे पाए हैं।

प्रशासन का पक्ष

66 जिन बच्चों के अभिभावकों के बैंक खातों में मिड डे मील की कन्वर्जन कास्ट भेजी गयी है उसका विवरण प्रेरणा पोर्टल पर देना था। अभी तक अधिकारियों ने नहीं दिया। मिड डे मील प्राधिकरण ने इसके लिए अब केवल 15 दिन का समय दिया है। हमने सभी खण्ड शिक्षा अधिकारियों को निर्देशित किया है। निर्धारित अवधि में विवरण न आने पर कार्रवाई होगी। पीएन सिंह, बेसिक शिक्षा अधिकारी व एडी बेसिक