विद्यालय परिसर में मवेशी और बाहर लगी बच्चों की पाठशाला

  

शंकरगढ़ : बेसहारा पशुओं द्वारा लहलहाती फसलों के चौपट किए जाने से आक्रोशित किसानों के सब्र का बांध सोमवार को टूट गया। नाराज किसानों ने स्कूल परिसर में मवेशियों को बंद कर दिया। इसका खामियाजा नौनिहालों को ङोलना पड़ा। बच्चों को ठंड में खुले आसमान के नीचे पढ़ाई करनी पड़ी।

विकास खंड के ग्राम पंचायत भड़िवार और तेंदुआ के दर्जनों किसानों ने बताया कि बेसहारा पशु उनकी फसलों को चौपट कर दे रहे हैं। इससे आक्रोशित किसानों ने प्राथमिक विद्यालय भड़िवार में सैकड़ों पशुओं को रविवार की रात बंद कर दिया। सोमवार सुबह से ही दर्जनों किसान लाठी-डंडे के साथ विद्यालय गेट पर धरने पर बैठ गए। विद्यालय के प्रधानाध्यापक कमलेश सिंह सुबह जब विद्यालय पहुंचे तो पशुओं को विद्यालय के अंदर बंद देख हैरान रह गए। उन्होंने स्कूल परिसर के बाहर बैठे किसानों से पशुओं को बाहर निकालने को कहा। इस पर किसानों ने कहा कि अफसरों के आने पर ही वह मवेशियों को बाहर निकालेंगे। ऐसे में शिक्षक ने खंड शिक्षाधिकारी को घटना की जानकारी देने के साथ ही स्थानीय पुलिस को सूचना दी। इसके बाद खुले आसमान के नीचे स्कूल परिसर के बाहर ही बच्चों की पाठशाला लगवा दी।

वहीं, सूचना पर एसडीएम बारा दयाशंकर पाठक, सीओ बारा सहीराम वर्मा, एसओ भुवनेश चौबे, खंड शिक्षाधिकारी प्रीती सिंह मौके पर पहुंचीं। खंड शिक्षाधिकारी के पहुंचने पर लगभग दो बजे बच्चों को पूर्व माध्यमिक विद्यालय भड़िवार ले जाया गया। एसडीएम बारा दयाशंकर पाठक ने गांव के बाहर तत्काल पशुशाला बनाए जाने को लेखपाल को भूमि चिह्न्ति किए जाने का आदेश दिया। एसडीएम ने बताया कि गांव में जल्द पशुशाला का निर्माण करवाया जाएगा। देर शाम एसडीएम के आदेश पर प्रधानाध्यापक ने विद्यालय परिसर में पशु बंद करने वालों व धरना पर बैठने वालों के खिलाफ थाने में तहरीर दी।

You may Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *