अध्यापन कार्य कराने में रुचि न लेने वाले अध्यापकों व शिक्षामित्रों पर सख्ती तेज

Basicसोनभद्र: परिषदीय विद्यालयों में अध्यापन कार्य कराने में रुचि न लेने वाले अध्यापकों व शिक्षामित्रों पर सख्ती तेज हो गई है। बृहस्पतिवार को जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी हरिवंश ने खंड शिक्षा अधिकारियों से कई विद्यालयों का औचक निरीक्षण कराया। निरीक्षण में अनुपस्थित मिले 15 अध्यापक एवं शिक्षामित्रों का एक दिन का वेतन रोकते हुए स्पष्टीकरण मांगा है। इस कार्रवाई से शिक्षकों में हड़कंप की स्थिति है।

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी हरिवंश कुमार ने बताया कि परिषदीय विद्यालयों में अध्यापकों के गायब होने की शिकायत को ध्यान में रखकर बृहस्पतिवार को सभी खंड शिक्षा अधिकारियों से विद्यालयों का औचक निरीक्षण कराया गया। निरीक्षण के दौराननगवां ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय कोदई -2 पर शिक्षामित्र ईश्वर चंद्र, शिक्षामित्र रजौती, शिक्षामित्र जमुना सिंह, बभनी ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय घघरी में शिक्षामित्र सरिता, कम्पोजिट विद्यालय सहगोड़ा में सहायक अध्यापक पप्पू भारतीया, सहायक अध्यापक मो. सालिम, शिक्षामित्र देवसाय, शिक्षामित्र श्यामनारायण, घोरावल ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय सहुआर के सहायक अध्यापक रविशंकर अस्थाना, शिक्षामित्र शिवलता, प्राथमिक विद्यालय उसरीखुर्द के शिक्षामित्र पुण्डरीक कुमार पाण्डेय, प्राथमिक विद्यालय बरसोत की शिक्षामित्र राही व दुद्धी ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय पोलवा की सहायक अध्यापिका मीतू केशरवानी व कम्पोजिट विद्यालय परासपानी के शिक्षामित्र विश्वामित्र का वेतन रोककर स्पष्टीकरण मांगा गया है। कहा कि आगे भी औचक निरीक्षण करते हुए कार्रवाई की जाएगी। स्पष्ट जवाब न देने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ेंः  शिक्षकों की 12 साल से अटकी पदोन्नति, सपने लिए रिटायर:- पद पड़े खाली

You may Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.