यूपी बोर्ड की सिलाई अब नकल माफिया के खेल को कैद करेगी

अलीगढ़ : माध्यमिक शिक्षा परिषद उत्तर प्रदेश (यूपी बोर्ड) की ‘सिलाई’ अब नकल माफिया के ‘खेल’ को कैद करेगी। बोर्ड ने 2020 की परीक्षा के लिए परीक्षार्थियों को स्टेपलर पिन से जुड़ी कॉपियों की जगह धागे से सिली कॉपियां देने का कदम उठाया है। एक दर्जन से ज्यादा संवेदनशील व अतिसंवेदनशील जिलों में यह प्रयोग किया जा रहा है। इसमें अलीगढ़ भी है।

पूर्व की परीक्षाओं में अलीगढ़ के अतरौली क्षेत्र में भी नकल माफिया सॉल्व पन्ने कॉपियों के बीच में लगाने का खेल कर चुके हैं। परीक्षा केंद्र से संकलन केंद्र तक कॉपी पहुंचने के बीच में भी कवर पेज के बीच में हल किए हुए पन्ने लगाने के प्रयास किए गए थे। स्टेपलर लगी उत्तरपुस्तिकाओं के पन्ने हटाए व लगाए जा सकते हैं। सिलाई की हुई कॉपी में पन्ना हटाने या लगाने की गुंजाइश न के बराबर होगी। डीआइओएस धर्मेद्र शर्मा ने बताया कि परीक्षा में नकल की कोई गुंजाइश न रहे, इसलिए नए व कड़े प्रयोग हो रहे हैं। पिछली परीक्षाओं में विद्यालय के सामने घर पर सॉल्वर गैंग पकड़ा गया था, जिसकी परीक्षा निरस्त कर एफआइआर कराई गई थी।

ये भी पढ़ें : यूपी बोर्ड की प्रयोगात्मक परीक्षाओं की होगी रिकार्डिग

जासं, अलीगढ़ : यूपी बोर्ड ने अलीगढ़ में 155 परीक्षा केंद्रों का निर्धारण कर दिया गया है। इन परीक्षा केंद्रों में सीसीटीवी कैमरों, वॉयस रिकॉर्डर, फर्नीचर, जेनरेटर, पानी, शौचालय आदि व्यवस्थाओं को दुरुस्त किया जा रहा है। शनिवार को डीआइओएस ने केंद्र बने कॉलेजों के प्रधानाचार्यो संग बैठक कर कहा कि दो हफ्तों में व्यवस्थाएं पूरी कर लें। निरीक्षण में किसी केंद्र की व्यवस्थाएं सही नहीं मिलीं तो कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.