चुनावी वर्ष में प्रदेश सरकार शिक्षकों की अब तक की सबसे बड़ी भर्ती की योजना

शिक्षक भर्तीउत्तर प्रदेश सरकारी नौकरी का इंतजार कर रहे युवाओं के लिए जल्द खुशखबरी मिल सकती है। चुनावी वर्ष में योगी आदित्यनाथ सरकार शिक्षकों की अब तक की सबसे बड़ी भर्ती योजना लगभग तैयार कर चुकी है। उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपी टीईटी) के टाइम टेबल की घोषणा के साथ ही नई शिक्षक भर्ती के जल्द ऐलान की उम्मीद भी बढ़ गई है। बताया जा रहा है की जल्द ही नोटिफिकेशन भी जारी किया जा सकता है।

उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद के एक लाख 13 हजार 289 प्राथमिक और 45 हजार 625 उच्च प्राथमिक स्कूलों में सहायक अध्यापकों के 72,712 पद खाली हैं। पिछले तीन साल में 68500 और 69000 सहायक अध्यापक भर्ती के बाद स्थिति में थोड़ा सुधार हुआ है। जून 2021 में ग्रामीण क्षेत्र के स्कूलों में 51,112 पद खाली थे जिसका हलफनामा सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में पिछले साल जून में ही लगा दिया था। फिलहाल स्कूलों में शिक्षकों के 70 हजार से अधिक पद खाली हैं।

यह भी पढ़ेंः  फेल डीएलएड प्रशिक्षुओं को एक और मौका

उत्तर प्रदेश के प्राथमिक स्कूलों में नई शिक्षक भर्ती का ऐलान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कभी भी कर सकते हैं। सीएम योगी के निर्देश पर राजस्व परिषद अध्यक्ष मुकुल सिंघल की अगुवाई में बनी तीन सदस्यीय कमेटी रिक्त पदों और विद्यालयों के पद निर्धारण प्रक्रिया को लगभग पूरा कर चुकी है। अभ्यर्थी भी नई शिक्षक भर्ती की मांग लंबे समय से कर रहे हैं। अब जबकि उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा की तारीख की घोषणा कर दी गई तो उम्मीद है कि जल्द ही शिक्षक भर्ती का भी ऐलान हो सकता है।

बता दें कि उत्तर प्रदेश के प्राथमिक स्कूलों की शिक्षक भर्ती के लिए अनिवार्य पात्रता परीक्षा का कार्यक्रम सोमवार को जारी हो गया है। इस कदम से नई शिक्षक भर्ती का भी रास्ता साफ हो गया है। उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा 2021 के जारी कार्यक्रम के अनुसार परीक्षा 28 नवंबर, 2021 को होगी और एक महीने बाद परीक्षा परिणाम 28 दिसंबर, 2021 को घोषित किया जाएगा। चार अक्टूबर को यूपीटीईटी का विज्ञापन जारी होगा, जबकि आनलाइन पंजीकरण सात अक्टूबर से शुरू होगा।

यह भी पढ़ेंः  प्रारंभिक परीक्षा-2021 रविवार को महानगर के 29 केंद्रों पर होगी

उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्कूलों में शिक्षक बनने के लिए टीईटी उत्तीर्ण करना अनिवार्य है। इसमें बीएड, डीएलएड व बीटीसी आदि पाठ्यक्रम उत्तीर्ण अभ्यर्थी शामिल हो सकते हैं। परीक्षा एक ही दिन में दो पाली में कक्षा एक से पांच व छह से आठ तक कराई जाती है। शासन ने 15 मार्च को ही पात्रता परीक्षा कराने की समय सारिणी जारी की थी। 11 मई को विज्ञापन व 18 मई से आनलाइन आवेदन लिए जाने थे। परीक्षा 25 जुलाई को प्रस्तावित थी। उस समय कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर प्रभावी होने के कारण यूपी सरकार ने आवेदन प्रक्रिया स्थगित कर दी थी।

यह भी पढ़ेंः  तदर्थ नियुक्त हुए कर्मियों को वरिष्ठता उनकी तदर्थ नियुक्ति की तारीख से नहीं