आंगनबाड़ी केंद्रों का किया जायेगा कायाकल्प, बच्चों के लिए खास व्यवस्था का प्रविधान

प्रयागराज : आंगनबाड़ी केंद्र जल्द नए स्वरूप में नजर आएंगे। यहां टाइल्स लगाने के अलावा अन्य सुविधाएं बढ़ाने की कवायद चल रही है। साथ ही सफाई व्यवस्था का भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है। सबकुछ ठीक रहा तो अगले माह से काम भी शुरू कर दिया जाएगा।

जिला कार्यक्रम अधिकारी कार्यालय की ओर से जर्जर और बदहाल सभी 23 ब्लाक के 100 आंगनबाड़ी केंद्र के कायाकल्प के लिए चिह्न्ति किया गया है। मुख्य विकास अधिकारी शिपू गिरि ने इन आंगनबाड़ी केंद्रों की सूची को जिला पंचायत राज अधिकारी को दिया है। 14वें वित्त आयोग की धनराशि से 100 आंगनबाड़ी केंद्रों का कायाकल्प कराया जाएगा। मरम्मत के अलावा ढांचे की मरम्मत, रंगाई, पुताई कराई जाएगी। सफाई व्यवस्था का भी ख्याल रखा जाएगा। इसके लिए हैंडवाशिंग यूनिट समेत स्वच्छ पेयजल की समुचित व्यवस्था कराई जाएगी। फोम मैट व सहायिकाओं के लिए फर्नीचर भी उपलब्ध कराया जाएगा। हालत सुधारने के बाद आंगनबाड़ी केंद्र पर आने वाले बच्चों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिकाओं को सहूलियत मिलेगी। डीपीआरओ आलोक कुमार सिन्हा ने बताया कि बदहाल केंद्रों को चिह्न्ति कर कार्ययोजना तैयार की जा रही है। इसके बाद काम भी शुरू कराया जाएगा।

यह भी पढ़ेंः  अंग्रेजी माध्यम स्कूलों के संचालन में अड़ंगा: सहारनपुर

सभी 23 ब्लाक के 100 आंगनबाड़ी केंद्र कायाकल्प के लिए चिह्न्ति पंचायतीराज विभाग की ओर से कराई जाएगी मरम्मत

23 ब्लाक में 100 आंगनबाड़ी केंद्र के कायाकल्प के लिए चिह्न्ति किया गया है। इनकी मरम्मत के बाद सुविधाएं भी बढ़ाई जानी है।

मनोज कुमार राव, जिला कार्यक्रम अधिकारी

बच्चों के लिए खास व्यवस्था का प्रविधान

आंगनबाड़ी केंद्रों का कायाकल्प किया जाना है। बच्चों का खास ख्याल रखा गया है। केंद्रों में थ्री डी माडल पेंटिंग, वाल पेंटिंग और बेबी फ्रेंडली शौचालय बनाए जाएंगे ताकि उन्हें सहूलियत हो। शानदार पेंटिंग के जरिए बच्चों को बेहतरीन माहौल उपलब्ध कराने का उद्देश्य है।

यह भी पढ़ेंः  एफआइआर वापस न हुई तो पर सड़क पर उतरेंगे प्रतियोगी