जल्द भरे जाएंगे उच्च शिक्षण संस्थानों के प्रमुखों के पद: शिक्षा मंत्री

नई दिल्ली: केंद्रीय विश्वविद्यालयों सहित आइआइटी, एनआइटी और टिपल आइटी जैसे देश के उच्च शिक्षण संस्थानों को अब प्रमुखों के लिए इंतजार नहीं करना होगा। शिक्षा मंत्रलय की नई जिम्मेदारी संभालने वाले धर्मेद्र प्रधान ने उच्च शिक्षण संस्थानों में कुलपति व निदेशकों के खाली पड़े पदों को जल्द भरने के संकेत दिए हैं। इस संबंध में उन्होंने जानकारी भी मांगी है। मौजूदा समय में अकेले करीब दो दर्जन केंद्रीय विवि में ही कुलपति के पद खाली हैं।

इस बीच, शिक्षा मंत्री प्रधान ने मंगलवार को राष्ट्रपति से भी मुलाकात की है। फिलहाल इस मुलाकात को एक शिष्टाचार भेंट बताया जा रहा है। यहां यह बताना उचित होगा कि राष्ट्रपति केंद्रीय विश्वविद्यालयों के विजिटर भी होते हैं। केंद्रीय विवि में कुलपति की नियुक्ति उनकी ओर से ही की जाती है। हालांकि इसके लिए नामों का पैनल शार्टलिस्ट करके मंत्रलय की ओर से भेजा जाता है।

इन विश्वविद्यालयों में कुलपति के पद हैं खाली

मौजूदा समय में जिन विश्वविद्यालयों में कुलपति के पद खाली हैं, उनमें जेएनयू, दिल्ली विवि, बनारस हंिदूू विवि, असम विवि, मणिपुर विश्वविद्यालय, नार्थ-ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी-शिलांग, गुरु घासीदास विश्वविद्यालय-छत्तीसगढ़, सागर विश्वविद्यालय-मध्य प्रदेश, बिहार और जम्मू-कश्मीर के दो-दो केंद्रीय विश्वविद्यालय, दिल्ली स्थित दो केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय शामिल हैं। इसके अलावा हरियाणा, राजस्थान, झारखंड, हिमाचल प्रदेश, तमिलनाडु और नगालैंड का एक-एक केंद्रीय विवि भी इनमें शामिल है।