काली पट्टी बांधकर शिक्षामित्रों ने जताई नाराजगी

लाटघाट। उत्तर प्रदेश प्रथमिक शिक्षा मित्र संघ के प्रदेश अध्यक्ष गाजी इमाम आला ने शिक्षामित्रों से अपील की है कि शिक्षामित्र निराश ना हों। संघठन पूरी ताकत के साथ सर्वोच्च न्यायालय में पुनर्विचार याचिका की लड़ाई को लड़ेगा। उन्होंने उम्मीद जताई कि सर्वोच्च न्यायालय शिक्षामित्रों के साथ न्याय अवश्य करेगा। जो आरोप शिक्षामित्रों के समायोजन पर लगाए गए थे, उनके खिलाफ सबूत दिए गए जा है फिर भी समायोजन रद्द हुआ तो इस लड़ाई को अंतिम सांस तक लड़ा जाएगा।

उत्तरप्रदेश प्रथमिक शिक्षा मित्र संघ के प्रदेश अध्यक्ष गाजी इमाम आला आजमगढ़ समय लाटघाट बाजार में शिक्षामित्र दिनेश पांडेय के आवास पर शिक्षामित्रों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने बताय कि 2011 में एनसीटीई ने कि 2011 में एनसीटीई ने शिक्षामित्रों को अंतिम शिक्षक मानते हुए दो वर्ष का सेवारत बीटीसी प्रशिक्षण कराने की अनुमति दी थी। अब प्रदेश सरकार द्वारा शिक्षामित्रों पर टीईटी थोपना सरासर अन्याय है। इस संबंध में शिक्षा मित्र संगठन के पास मानव संसाधन विकास मंत्रालय है और प्रधानमंत्री अपनी बातों को पहुंचा चुके हैं। शिक्षामित्र 2001 से प्राथमिक शिक्षण व्यवस्था में शिक्षण कार्य कर रहे हैं। संजय यादव, मोतीलाल कनौजिया ,दिनेश नायक, अजीत राय, दिनेश कुमार पांडे, सुनीता सिंह, अनीता देवी, पिंटू राय ,आदि शिक्षामित्र रहे।

काली पट्टी बांधकर शिक्षामित्रों ने जताई नाराजगी: शिक्षामित्रों से दीपावली पर पर्व पर वहिष्कार कर काली पट्टी बांधकर प्रदर्शन किया। शिक्षामित्रों ने सरकार न्याय की गुहार लगाई। शिक्षामित्र संगठन नेता अजय प्रताप के नेतृत्व में में शिक्षामित्रों ने काली बांधकर सरकार के खिलाफ विरोध दर्ज कराया। शिक्षामित्रों ने सरकार की तरफ से कोई रहत भरा फैसला न आने विरोध में दीपावली का बहिष्कार करने की बात कही। सरकार सरकार द्वारा शिक्षामित्रों को टीईटी परीक्षा में समय ना दिये जाने, परीक्षा में एक भी दिन अवकाश ना दिए जाने, परीक्षा में प्रवेश पत्र प्राप्त होने के प्रवेश न दिया जाने पर सरकार आरोप लगाया। अजय प्रताप ने कहा कि जल्द ही प्रांतीय नेतृत्व के निर्देश पर शिक्षामित्रों का आंदोलन होगा। इस दौरान ललित नारायण त्रिपाठी, कमलेश कुमार, अनित पटेल, राकेश, अंजू अवस्थी, अनिल यादव, नीलू तिवारी आदि। 

वेतन व बोनस न मिलने से शिक्षामित्रों ने बैठक कर जताया आक्रोश: औरैया –  त्योहार से पहले मानदेय न मिलने से शिक्षामित्रों की दिवाली फीकी रहेगी। शिक्षामित्र संघ ने बैठक कर नाराजगी जताई और बीएसए से जल्द मानदेय दिलाने की मांग की है। बुधवार को औरैया में उत्तरप्रदेश प्रथमिक शिक्षा मित्र संघ की बैठक हुई। जिलाध्यक्ष संतोष कुमार दुबे ने बताया कि राज्य सरकार ने समायोजित शिक्षामित्र का जुलाई माह का अवशेष व अगस्त, सितंबर माह का वेतन और बोनस दिवाली से पहले देने को कहा था। उसके बावजूद अभी तक उनका वेतन नहीं आया है। वहीं, शिक्षामित्रों को भी अभी तक सरकार की ओर से तय दस हजार रुपये के अनुसार मानदेय नहीं मिला। मानदेय न मिलने से शिक्षामित्रों की दिवाली फीकी हो गई है।

13 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.