शिक्षक भर्ती का ड्राफ्ट तैयार, प्रस्ताव जल्द

उत्तर प्रदेश के प्राथमिक विद्यालयों में सहायक शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा उपलब्ध कराने का ड्राफ्ट तैयार होगया है। परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव अगले सप्ताह इसे शासन को भेजेंगी और वहां से निर्देश मिलने के बाद परीक्षा कराने की तैयारी तेजी से शुरू होंगी। साथ ही उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन के लिए परीक्षकों की तलाश भी तेजी से चल रही है।  प्राथमिक विद्यालयों में 68500 सहायक अध्यापकों की भर्ती लिखित परीक्षा के माध्यम से होती है। शासन ने इस परीक्षा के लिए पहलेमाध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड को जिम्मेदारी सौंपने का मन बनाया था, लेकिन वहां का गठन न होना इसमें बाधा बना। असल में परीक्षा दिसंबर माह में कराने की तैयारी है। ऐसे में परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव को परीक्षा संस्था बनाने के लिए प्रस्ताव मांगा गया है। पिछले दिनों परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव ने बेसिक शिक्षा परिषद का मुख्यालयसे इस संबंध में सूचनाएं एकत्र करके परीक्षा का ड्राफ्ट तैयार कराया है।

उम्मीद है कि इस परीक्षा में लगभग एक लाख से अधिक दावेदार होंगे, लेकिन यह इम्तिहान अन्य से अलग होगा। इसमें OMR शीट का प्रयोग नहीं हो सकेगा, बल्कि परिषद की ओर से सिलेबस में लघु उत्तरीय प्रश्न पूछे जाने का निर्देश जारी हुआ है, ऐसे में योग्य परीक्षकों की तलाश भी हो रही है, ताकि किसी तरह का विवाद न हो। शिक्षक भर्ती की पहली लिखित परीक्षा इस संस्था को देने की सबसे खास वजह यह है कि यूपी टीईटी 2017 की तैयारी के तरीके से किया गया है। इसमें शिक्षामित्र व अन्य सहित लगभग पौने दस लाख परीक्षार्थी शामिल थे।

यह भी पढ़ेंः  शिकायत मिलने पर बीएसए ने बांटे गए स्वेटरों का सैंपल जांच के लिए भेजा

ऐसे में शिक्षक भर्ती की दूसरी परीक्षा की जिम्मेदारी परीक्षा डेवलपर्स के लिए मिलना लगभग तय है। उम्मीद है कि शासन प्रस्ताव मिलने के कुछ दिन बाद ही इस संबंध में निर्देश जारी करेगा। सचिव डाॅ। सुत्ता सिंह ने बताया कि शिक्षक भर्ती की पहली लिखित परीक्षा का ड्राफ्ट तैयार कर लिया है, उसे अगले सप्ताह शासन को भेजना होगा। वहां से जो निर्देश मिलेगा उसका अनुपालन किया जाएगा