प्रदर्शन, लाठीचार्ज के बाद मिला काउंसलिंग लेटर

बेसिक शिक्षा विभाग में टीचर बनने का सपना लेकर निशातगंज स्थित डायट में जुटे सैकड़ों अभ्यर्थियों पर पुलिस ने रविवार शाम लाठीचार्ज कर दिया। ये अभ्यर्थी उन 6000 बेरोजगार युवाओं में थे जो भर्ती की सभी अर्हताएं पूरी करते थे, लेकिन काउंसलिंग से बाहर कर दिए गए थे। सीएम योगी के इस मामले में संज्ञान लेने के बाद अपर मुख्य सचिव प्रभात कुमार ने शनिवार को दावा किया था कि सभी अभ्यर्थियों को रविवार को काउंसलिंग के लिए जिले आवंटित कर दिए जाएंगे। शाम तक काउंसलिंग का आवंटन पत्र तो नहीं मिला उल्टा पुलिस ने अभ्यर्थियों को डायट से बाहर खदेड़ दिया। शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे इन अभ्यर्थियों ने पुलिसवालों के पैर पकड़े, हाथ जोड़े, रोए-गिड़गिड़ाए मां-बाप, बीवी-बच्चों की दुहाई दी। कई तो बेहोश हो गए, लेकिन किसी की एक नहीं सुनी गई। उकताए अभ्यर्थियों ने सड़क जाम की तो पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया।

मंगलवार को काउंसलिंग: लाठियां खाने के बाद इन अभ्यर्थियों को देर शाम जिले आवंटित कर काउंसलिंग लेटर जारी होने की जानकारी मिली। अपर मुख्य सचिव प्रभात कुमार ने बताया कि अभ्यर्थी https://upbasiceduboard.gov.in/ पर आवंटित जिले का ब्योरा देख सकते हैं। मंगलवार को डॉक्यूमेंट्स के साथ सम्बंधित जिले में पहुंचकर अभ्यर्थियों को काउंसलिंग करवानी होगी।

सुबह से शाम तक 12 घंटे चला ड्रामा
7:15 AM पुलिस ने रविवार को डायट परिसर में अभ्यर्थियों को जाने से रोक दिया
9:30 AM बेसिक शिक्षा निदेशक ने अभ्यर्थियों से वार्ता की। बात नहीं बनी।
2:35 PM कुछ लोगों को पुलिस ने बस में बैठा दिया। महिला पुलिस ने भी खींचतान की।
4:30 PM पुलिस ने कई प्रदर्शनकारियों को ईको गार्डन भेज दिया।
4:35 PM अभ्यर्थियों ने सड़क जाम कर दी। लाठीचार्ज शुरू।
6:00 PM पुलिस ने ईको गार्डन से भी अभ्यर्थियों को खदेड़ दिया।
7:00 PM अपर मुख्य सचिव ने कहा, लेटर जारी

मथुरा के आशीष सिंह ने रविवार को अपनी मां को लखनऊ से मेसेज किया,’मेरा इंतजार मत करना। अब मेरा शव ही वापस आएगा।’ 68 हजार 500 शिक्षकों की भर्ती में क्वॉलिफाई करने के बावजूद बाहर कर दिए गए आशीष काउंसलिंग के लिए आवंटन पत्र लेने लखनऊ आए थे, लेकिन यहां उन्हें पुलिस से मार खानी पड़ी। इसी तरह कानपुर से नलकूप चालक (सामान्य चयन) परीक्षा देने आए विनोद जब राजाजीपुरम स्थित परीक्षा केंद्र पहुंचे तो उन्हें पता चला कि पेपर लीक के बाद परीक्षा स्थगित हो गई है। सीएम योगी के सख्त रुख के बाद आशीष को तो देर शाम काउंसलिंग पत्र जारी होने की सूचना मिल गई, लेकिन विनोद जैसे सैकड़ों लोग सिस्टम की ढिलाई से मायूस होकर लौट गए।

विपक्ष का हमला: 68,500 शिक्षकों की भर्ती में सीटें तुरंत भरे जाने व अनियमितताओं के खिलाफ जब अभ्यर्थी आवाज उठा रहे हैं तो भाजपा सरकार उन्हें प्रताड़ित कर रही है। बेरोजगार युवाओं के साथ अपमानजनक व्यवहार इनकी आदत बन गई है। – अखिलेश यादव, सपा अध्यक्ष

पढ़ें- Deployment of Shiksha mitra not being given in Mool Vidyalaya

इन भर्तियों में भी लगे दाग
यूपीपीसीएल की जेई भर्ती पेपर लीक के बाद निरस्त
एसएससी मल्टी टास्किंग स्टाफ परीक्षा का पेपर लीक
यूपी पुलिस की एसआई भर्ती का पेपर लीक, दोबारा हुई

UP Shikshak Bharti Counseling letter after lathi charge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *