सफल शिक्षामित्रों को ही 68,500 शिक्षक भर्ती में वेटेज का हक – इलाहाबाद हाईकोर्ट

68,500 सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा में असफल अभ्यर्थियों की ओर से इलाहाबाद हाई कोर्ट में एक याचिका दाखिल की थी जिसमें लिखा था कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुसार लिखित परीक्षा में वेटेज देकर परिणाम घोषित किया जाए। लेकिन हाईकोर्ट ने बुधवार को शिक्षामित्रों की उस याचिका को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि लिखित परीक्षा में सफल शिक्षामित्रों को ही वेटेज पाने का अधिकार है। जिससे 6850 शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा में असफल शिक्षामित्रों को झटका लगा।

मुख्य न्यायमूर्ति डीबी भोसले एवं न्यायमूर्ति यशवंत वर्मा की खंडपीठ ने शिक्षामित्रों की याचिका पर आदेश सुनते हुए कहा कि सहायक शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा में सफल शिक्षामित्रों को ही ही वेटेज मिलेगा। कुलभूषण मिश्र व अन्य ने लिखित परीक्षा में शिक्षामित्रों को वेटेज देने को लेकर अपील याचिका दायर की गई थी। याचिका में लिखा था कि सुप्रीम कोर्ट ने शिक्षामित्रों को लगातार दो भर्तियों में वेटेज देने का अवसर दिया है ताकि उनका समायोजन हो सके। यह वेटेज 22वें संशोधन से लिखित परीक्षा में देने की व्यवस्था की गई है। उनका कहना था कि परीक्षा योग्यता नहीं बल्कि शार्ट लिस्टिंग है इसलिए वेटेज देकर लिखित परीक्षा का परिणाम घोषित किया जाए।

अपर मुख्य स्थायी अधिवक्ता सुधांशु श्रीवास्तव का कहना कि लिखित परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले अभ्यर्थियों के आवेदन की समीक्षा कर मेरिट सूची तैयार किए जाने का नियम है। ऐसे में जो अभ्यर्थी परीक्षा में सफल होगा उसे ही वेटेज पाने का अधिकार है। वेटेज कोई ग्रेस मार्क नहीं है जिससे फेल अभ्यर्थी को पास किया जा सके। उन्होंने बताया कि न्यूनतम अंक पाने वाले अभ्यर्थियों की सूची तैयार कर शिक्षामित्रों को वेटेज देकर चयन किया जाएगा। अपील में यह भी कहा गया था कि अब भी 20 हजार से अधिक पद रिक्त हैं। यदि शिक्षामित्रों को वेटेज देकर परिणाम घोषित किया जाता है तो चयनित हो चुके अभ्यर्थियों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

गौरतलब है कि 27 मई को आयोजित सहायक अध्यापक के 68,500 पदों पर भर्ती परीक्षा में कुल 1,07,873 अभ्यर्थी शामिल हुए थे. इनमें टीईटी उत्तीर्ण करीब 38 हजार शिक्षामित्रों में से 34,311 शिक्षामित्रों ने सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा दी थी. 13 अगस्त को जारी परिणाम में उत्तीर्ण 41,556 अभ्यर्थियों में 7224 Shiksha Mitra हैं. जिसके बाद हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर फेल छात्रों को वेटेज देते हुए पास करने की अपील की गई थी.shikshamitra bharank petition

38 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.