68500 सहायक अध्यापक भर्ती की सभी कापियों की होगी स्क्रूटनी

  

राज्य सरकार ने 68500 सहायक अध्यापक भर्ती की लिखित परीक्षा की सभी कापियों की स्क्रूटनी कराने का निर्णय लिया है। जिससे लिखित परीक्षा के रिजल्ट में हुई गड़बड़ी की वस्तुस्थिति सामने आ जाएगी। लिखित परीक्षा की कुल 107873 कापियों की स्क्रूटनी एक सप्ताह में कर ली जाएगी। इससे कापियों के गलत मूल्यांकन की पूरी गड़बड़ी का सच सभी के सामने आ जायेगा। इस बीच शासन के द्वारा गठित संबंधित प्रकरण की जांच के लिए उच्च स्तरीय समिति भी अपनी रिपोर्ट को अंतिम रूप देने में जुट गई है। पास पांच सौ से अधिक शिकायतें समिति के सामने आ चुकी है। इस प्रकरण में छानबीन करने के बाद पता चला है कि सौ से अधिक अभ्यर्थियों की शिकायतों में दम पाया गया है। इस मामले में अब तक की कई कार्यवाही की स्टेटस रिपोर्ट प्रदेश सरकार बुधवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट में पेश करेगी।

शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा की कापियों के मूल्यांकन और नंबर जोड़ने में अनियमितताओं का खुलासा होने के बाद प्रदेश सरकार ने पूरे मामले की जाँच के लिए एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया जिसकी अगुवाई गन्ना विभाग के प्रमुख सचिव संजय आर भूसरेड्डी कर रहे है। इस समिति के दो सदस्य सर्व शिक्षा अभियान के निदेशक वेदपति मिश्र व बेसिक शिक्षा निदेशक डा. सर्वेद्र विक्रम बहादुर सिंह दो बार परीक्षा संस्था कार्यालय का दौरा कर चुके हैं। अभ्यर्थियों ने इस समिति के सदस्यों से मुलाकात कर अपनी शिकायतें दर्ज कराई हैं। अफसरों ने जांच समिति के सदस्यों के सामने इस गड़बड़ी को मना है और कहा है कि यह गड़बड़ी इसलिए हो गई, क्योंकि कॉपी पर दर्ज अंकों की जगह एवार्ड ब्लैंक में बार कोड का नंबर लिख गया। इसी तरह से बार कोडिंग में भी कई अन्य की कॉपियां या तो मिली नहीं हैं, या फिर बदल गई हैं। गठित समिति ने भी मना कि इस परीक्षा में गड़बड़ियां हुई हैं। समिति के अध्यक्ष भूसरेड्डी बताया कि शिकायतों की जांच कर जल्द ही पूरी कर रिपोर्ट शासन को सौंप दी जाएगी।

इसी दौरान बेसिक शिक्षा के अपर मुख्य सचिव डा.प्रभात कुमार ने बताया कि प्रदेश सरकार ने समिति से शिकायतों की जांच कराने के अलावा सभी कापियों की स्क्रूटनी कराने का भी फैसला किया है। उन्होंने बताया यह भी बताया कि कापियों की स्क्रूटनी का काम तेजी से चल रहा है। डा. कुमार ने कहा कि इस स्क्रूटनी कार्यक्रम से हर एक कॉपी की पूरी स्थिति और साफ हो जाएगी। स्क्रूटनी का काम जल्द से जल्द पूरा हो इसलिए 20 से अधिक टीमें में करीब सौ से अधिक अधिकारीयों को लगाया गया है। स्क्रूटनी करने में कोई गड़बड़ी न हो सके इसके लिए संबंधित अधिकारियों से प्रमाणपत्र भी लिया जाएगा। सूत्रों के मुताबिक, कापियों की स्क्रूटनी गोपनीय तरीके से शुरू भी हो चुकी है और अब तक करीब 37 हजार कापियों की स्क्रूटनी पूरी हो चुकी है। सूत्रों के अनुसार अब तक की स्क्रूटनी में दोनों तरह की कापियां मिली हैं।

You may Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *