परिषदीय स्कूलों में कार्यरत फर्जी शिक्षकों पर शिकंजा, शासन ने मांगी रिपोर्ट

गोरखपुर: परिषदीय स्कूलों में कार्यरत फर्जी शिक्षकों पर शिकंजा कसता जा रहा है। गोरखपुर समेत प्रदेश के विभिन्न जिलों में एसटीएफ द्वारा चिह्नित शिक्षकों पर अब तक हुई बर्खास्तगी व एफआइआर की कार्रवाई की सूचना शासन ने तलब की है। बेसिक शिक्षाधिकारियों को सात दिन का समय दिया गया है। निर्धारित समय के अंदर सूचना नहीं देने वाले बीएसए का जून माह का वेतन बाधित करने की चेतावनी दी गई है।

जिले में एसटीएफ द्वारा चिह्नित शिक्षक 43 हैं। इनमें लगभग तीन दर्जन फर्जी शिक्षकों के विरुद्ध बर्खास्तगी व एफआइआर की कार्रवाई हो चुकी है। पांच के विरुद्ध जांच चल रही है।

महानिदेशक के निर्देश के बाद बीएसए कार्यालय सूचना तैयार करने में जुट गया है।

देनी होगी यह सूचनाएं: एसएटीएफ द्वारा चिह्नित फर्जी शिक्षकों से जुड़ी जो सूचनाएं शासन ने तलब की है उनमें छह से सात ¨बदुओं पर विस्तार से जानकारी देनी होगी। इनमें जनपद के नाम के अलावा एसटीएफ द्वारा चिह्नित संदिग्ध व फर्जी शिक्षकों की संख्या, शिक्षक का नाम, पदनाम, विद्यालय का नाम, पता, एफआइआर संख्या तथा संबंधित थाने का नाम आदि शामिल है।

’>>एसटीएफ की ओर से चिह्नित शिक्षकों पर कार्रवाई का देना होगा ब्योरा

’>>सूचना नहीं देने पर बीएसए का वेतन बाधित करने की चेतावनी

शासन ने जनपद में एसटीएफ द्वारा चिह्नित फर्जी शिक्षकों की अब तक हुई बर्खास्तगी व एफआइआर की कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी है। इसे तैयार कराया जा रहा है। तय समय सीमा के अंदर रिपोर्ट भेज दी जाएगी।

बीएन सिंह, बीएसए