सीबीएसई की कक्षा 10वीं की मार्किंग स्कीम को लेकर स्कूलों ने जताई चिंता

कोरोना के कारण इस साल सीबीएसई ने 10वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाओं को रद्द कर दिया है. ऐसे में सीबीएसई ने इंटरनल असेसमेंट और वर्ष भर में आयोजित होने वाली विभिन्न परीक्षाओं के आधार पर निर्धारित अंक के आधार पर विद्यार्थियों को प्रमोट करने का फैसला किया है.

ऐसे में केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, सीबीएसई ने कक्षा 10 बोर्ड परीक्षा परिणाम 2021 के लिए अंक नीति पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों के जवाब जारी किए हैं. कुछ शिक्षकों द्वारा मॉडरेशन नीति के बारे में चिंता व्यक्त करने के बाद सीबीएसई ने अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तर जारी करने का निर्णय लिया है. सीबीएसई ने FAQ दस्तावेज स्कूलों को भेज दिया है. दरअसल, बोर्ड ने मॉडरेशन नीति पर शिक्षकों और प्राचार्यों ने चिंता जताई थी.

सीबीएसई कक्षा 10वीं अंक 2021: नीति विवरण

1 मई, 2021 को जारी नीति के अनुसार, स्कूलों को पहले छात्रों की इंटरनल परीक्षाओं के आधार पर मूल्यांकन करना होगा और उन्हें 80 में से अंक दिए जाएंगे.

सीबीएसई कक्षा 10वीं मार्किंग 2021 को लेकर जताई गई चिंताएं

कई शिक्षक छात्रों के घटते अंक पर चिंता का हवाला देते हुए मॉडरेशन पर सवाल उठा रहे हैं.
कई स्कूलों ने सीबीएसई द्वारा अपनी मॉडरेशन नीति के तहत साझा किए गए अंकों की सीमा में छात्रों की एक निश्चित संख्या को भरने की आवश्यकता के बारे में चिंता जताई.

सीबीएसई कक्षा 10 अंक 2021: बोर्ड द्वारा उठाए गए कदम

सभी कंफ्यूजन को दूर करने के लिए, सीबीएसई ने स्कूलों के शिक्षकों और प्राचार्यों के लिए कई वेबिनार आयोजित किए.

सीबीएसई ने चिंताओं को दूर किया है और स्कूलों को द्वारा अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों के लिए FAQ दस्तावेज जारी किए हैं.