स्केलिंग व माडरेशन प्रक्रिया में जल्द हो सकता है बदलाव

प्रयागराज : कार्य में निष्पक्षता व पारदर्शिता लाने के लिए उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग ने बीते दो साल में काफी बदलाव किए हैं। आयोग जल्द स्केलिंग व माडरेशन प्रक्रिया में बदलाव कर सकता है। दोनों प्रक्रिया में मनमाना नंबर बढ़ाने व घटाने का आरोप लगता रहा है। यही नहीं, सीबीआइ माडरेशन व स्केलिंग की आड़ में नंबरों में किए गए हेर-फेर को पकड़ चुकी है। प्रतियोगी छात्रों ने भी आयोग अध्यक्ष से इसको लेकर शिकायत दर्ज कराई है। यही कारण है कि अब उसमें बदलाव करके प्रक्रिया पारदर्शी बनाने की दिशा में काम किया जा रहा है।

प्रतियोगी परीक्षाओं की कापियां जांचने के लिए माडरेशन प्रक्रिया अपनाई जाती है। इसमें विशेषज्ञ एक कापी को नमूना के रूप में जांचते हैं। वह जो नंबर देते हैं उसी के अनुरूप सारी कापियों का मूल्यांकन होता है, लेकिन 2012 से 2016 तक हुई अधिकतर परीक्षाओं में कापियों के मूल्यांकन में उक्त नियम का पालन नहीं हुआ।

यह भी पढ़ेंः  28 नवंबर को हो सकती है शिक्षक पात्रता परीक्षा 2021