आयोग व चयन बोर्ड में फंसे परिणाम

प्रदेश की दो, अहम शिक्षक भर्तियां, दो भर्ती संस्थानों में लंबे समय से लटकी हैं। यह भी संयोग कि दोनों शिक्षक भर्तियों में रिजल्ट दो-दो विषयों के ही अटके हैं। विषय भले ही दो हैं, लेकिन उनके पदों की तादाद 4961 है। पदों की यह बड़ी संख्या बता रही है कि भर्ती संस्थानों ने माध्यमिक कॉलेजों के लिए जिन विषयों के परिणाम घोषित किए हैं, उन विषयों में पद कम रहे हैं। बड़े पद वाले परिणाम कब आएंगे यह तय नहीं है।

प्रदेश के अशासकीय सहायताप्राप्त माध्यमिक कॉलेजों के लिए 1262 प्रवक्ता व 7434 प्रशिक्षित स्नातक शिक्षक चयन 2016 की लिखित परीक्षा फरवरी व मार्च 2019 में हुई। चयन बोर्ड ने 25 अक्टूबर को प्रवक्ता के 22 व प्रशिक्षित स्नातक के 14 विषयों का परिणाम घोषित किया है। इनमें 22699 का चयन हुआ है, जो साक्षात्कार देंगे तब वे शिक्षक बन सकेंगे। चयन बोर्ड ने पीजीटी व टीजीटी में हंिदूी व कला विषयों का परिणाम अब तक घोषित नहीं किया है। दोनों पदों के दो विषयों में 1674 पदों का परिणाम आना शेष है।

ये भी पढ़ें :  Chhattisgarh Professional Examination Board / Vyapam released exam results

ऐसे ही राजकीय माध्यमिक कॉलेजों में 10768 एलटी ग्रेड शिक्षक चयन 2018 की लिखित परीक्षा उप्र लोकसेवा आयोग ने 29 जुलाई को कराई थी। 15 विषयों में से 13 का परिणाम आ चुका है। अभी हंिदूी व सामाजिक विज्ञान विषय का परिणाम रुका है। इन दोनों विषयों में ही 3287 पद हैं। सूत्रों की मानें तो इस परीक्षा में पेपर लीक का आरोप है और एसटीएफ उसकी जांच कर रही है। पेपर लीक इन्हीं दोनों विषयों में होना कहा जा रहा है। आयोग इनका रिजल्ट देने में जल्दबाजी नहीं कर रहा है, जबकि अन्य विषयों में से कई का सत्यापन करा लिया है और शेष का सत्यापन चल रहा है। दोनों संस्थानों में दो भर्तियों के दो विषयों का परिणाम कब तक आएंगे, यह स्पष्ट नहीं है, इससे दोनों भर्तियां अटकी हैं। संस्थानों में दो शिक्षक भर्तियां लटकीं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.