संसदीय समिति ने की 12 हजार से भी ज्यादा पदों पर शिक्षकों की नियुक्ति की सिफारिश

केंद्रीय विद्यालय संगठन (केवीएस), नवोदय विद्यालय समिति (एनवीएस), केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई), राष्ट्रीय शिक्षा अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) और राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी संस्थान (एनआईओएस) के 12000 से ज्यादा रिक्त पदों पर भर्ती हेतु अभियान चलाने की सिफारिश की है। यह सिफारिश शुक्रवार को संसद की एक समिति ने की है।

दरअसल, संसद में इस सप्ताह पेश शिक्षा, बाल, महिला, युवा एवं खेल संबंधी स्थायी समिति की रिपोर्ट में रिक्तियों की स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए सिफारिश की है कि सभी रिक्तियों को भरने के लिए एक विशेष समयबद्ध भर्ती अभियान चलाया जाए। समिति ने अपनी रिपोर्ट में यह भी कहा है कि शिक्षकों की रिक्तियों से स्कूलों में शिक्षक विद्यार्थियों के अनुपात पर असर पड़ता है और इससे मौजूदा शिक्षकों पर अतिरिक्त बोझ पड़ता है।

केवीएस के कुल 13949 पद रिक्त
रिपोर्ट में समिति ने बताया है कि केंद्रीय विद्यालय संगठन (केवीएस) में कुल 13949 पद रिक्त हैं। इसमें से केवल 5991 पद शिक्षकों के हैं। बता दें जारी अधिसूचना के अनुसार 31 दिसंबर 2020 तक अन्य पिछड़ा वर्ग के 1611, आर्थिक रूप से कमजोर श्रेणी के 587 और दिव्यांग श्रेणी के 165 पद रिक्त थे। वहीं अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के कुल 1348 रिक्तियां थी।

नवोदय विद्यालय समिति के कुल 3407 पद रिक्त
नवोदय विद्यालय समिति (एनवीएस) में शिक्षकों के कुल 3407 पद रिक्त हैं। इसमें से अन्य पिछड़ा वर्ग के 671, अनुसूचित जाति के 414, अनुसूचित जनजाति के 351 और दिव्यांग श्रेणी के 176 पद आरक्षित किए गए हैं। वहीं सामान्य वर्ग और आर्थिक रूप से कमजोर श्रेणी के लिए कुल 1785 रिक्तियां हैं।

सीबीएसई, एनसीईआरटी और एनआईओएस के कुल 2744 रिक्तियां
अब बात करें केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की ताे इसमें कुल 929 रिक्तियां हैं। जबकि राष्ट्रीय शिक्षा अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) में शिक्षकों के कुल 1644 पद रिक्त हैं तथा राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी संस्थान (एनआईओएस) में रिक्त पदों की संख्या 171 है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.