राजकीय इंटर कॉलेजों में सरप्लस शिक्षकों का ब्योरा मांगा

स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों के आधार नामांकन के लिए अब जुलाई तक का वक्त दे दिया गया है। योजना के अंतर्गत 1 से 8वीं कक्षा तक के स्टूडेंट्स का आधार नामांकन होना है। आगे एमडीएम और ड्रेस वितरण के लिए छात्रों की संख्या का निर्धारण आधार योजना से ही होगा।

शासन ने पहले जून में ही आधार नामांकन की प्रक्रिया पूरी करने को कहा था। इसमें गर्मी की छुट्टियों के चलते दिक्कतें आ रही थीं। इसको लेकर प्रदेश दूरस्थ बीटीसी शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष अनिल कुमार यादव के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा से मिला और समय सीमा बढ़ाने का अनुरोध किया था जिससे शत-प्रतिशत नामांकन कराया जा सके। अपर बेसिक शिक्षा परिषद बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में स्टूडेंट्स को एमडीएम व ड्रेस वितरण आधार से होगा शिक्षा निदेशक नीना श्रीवास्तव ने इस बारे सभी बीएसए को निर्देश भी जारी कर दिया है।

प्रवेश को आधार से लिंक किए जाने के बाद ड्रेस वितरण से लेकर किताब, बैग वितरण तक में भी फर्जी छात्र संख्या दर्शाने की संभावनाएं खत्म हो जाएंगी। वहीं शिक्षकों का समायोजन भी बेहतर हो सकेगा।

राजकीय इंटर कॉलेजों में सरप्लस शिक्षकों का ब्योरा मांगा: शासन ने राजकीय इंटर कॉलेजों में तैनात सरप्लस शिक्षकों का ब्योरा तलब किया है। सभी स्कूलों के जिला निरीक्षक को मंडलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक के जरिए 12 जून तक ब्योरा शासन को उपलब्ध कराना होगा। निदेशक अमरनाथ वर्मा की ओर से जारी पत्र में कहा गया है कि 6 से 10वीं कक्षा तक सहायक अध्यापकों और 11-12वीं में छात्र संख्या के अनुपात में प्रवक्ताओं की गिनती कर सरप्लस का ब्योरा उपलब्ध कराएं। इस संदर्भ में 13 जून को प्रमुख सचिव माध्यमिक शिक्षा ने बैठक भी बुलाई है।