राजकीय इंटर कॉलेजों में सरप्लस शिक्षकों का ब्योरा मांगा

बेसिक शिक्षा परिषद की ओर से संचालित स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों के आधार नामांकन के लिए अब जुलाई तक का वक्त दे दिया गया है। योजना के अंतर्गत 1 से 8वीं कक्षा तक के स्टूडेंट्स का आधार नामांकन होना है। आगे Mid Day Meal और ड्रेस वितरण के लिए छात्रों की संख्या का निर्धारण आधार योजना से ही होगा।

शासन ने पहले जून में ही आधार नामांकन की प्रक्रिया पूरी करने को कहा था। इसमें गर्मी की छुट्टियों के चलते दिक्कतें आ रही थीं। इसको लेकर प्रदेश दूरस्थ बीटीसी शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष अनिल कुमार यादव के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा से मिला और समय सीमा बढ़ाने का अनुरोध किया था जिससे शत-प्रतिशत नामांकन कराया जा सके। अपर बेसिक शिक्षा परिषद Basic Shiksha Parishad के स्कूलों में स्टूडेंट्स को एमडीएम व ड्रेस वितरण आधार से होगा शिक्षा निदेशक नीना श्रीवास्तव ने इस बारे सभी बीएसए को निर्देश भी जारी कर दिया है।

प्रवेश को आधार से लिंक किए जाने के बाद ड्रेस वितरण से लेकर किताब, बैग वितरण तक में भी फर्जी छात्र संख्या दर्शाने की संभावनाएं खत्म हो जाएंगी। वहीं शिक्षकों का समायोजन भी बेहतर हो सकेगा।

राजकीय इंटर कॉलेजों में सरप्लस शिक्षकों का ब्योरा मांगा: शासन ने Rajkiya Inter College में तैनात सरप्लस शिक्षकों का ब्योरा तलब किया है। सभी District Inspector of Schools को मंडलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक के जरिए 12 जून तक ब्योरा शासन को उपलब्ध कराना होगा। निदेशक अमरनाथ वर्मा की ओर से जारी पत्र में कहा गया है कि 6 से 10वीं कक्षा तक सहायक अध्यापकों और 11-12वीं में छात्र संख्या के अनुपात में प्रवक्ताओं की गिनती कर सरप्लस का ब्योरा उपलब्ध कराएं। इस संदर्भ में 13 जून को प्रमुख सचिव माध्यमिक शिक्षा ने बैठक भी बुलाई है।

पढ़ें- अब एचआरडी मंत्रलय में होगी शिक्षकों की कुंडली

Surplus Teachers

UP Basic Shiksha News पढ़ने के लिए आप प्राइमरी का टीचर ब्लॉग को सब्सक्राइब कर सकते है। जिससे आपको हमारे ब्लॉग की लेटेस्ट न्यूज़ का नोटिफिकेशन मिल सके। साथ ही इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा सोशल मीडिया पर शेयर करने के लिए आप हमारे facebook पेज को जरूर Like करें।

111 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.