टीजीटी शिक्षक भर्ती: विद्यालय आवंटन न होने से चयन बोर्ड पर उठाए सवाल

प्रयागराज : प्रशिक्षित स्नातक शिक्षक (टीजीटी) -2016 की भर्ती में चयन के बावजूद विद्यालय आवंटित न होने से सत्याग्रह कर रहे सामाजिक विज्ञान और कला विषय के अभ्यर्थियों ने माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड पर गंभीर सवाल उठाए हैं। उनका कहना है कि विद्यालय आवंटन में सिर्फ कुछ घंटे लगने हैं, लेकिन चयन बोर्ड उतना समय भी नहीं दे रहा है। इससे अंदर कुछ और खेल चलने का संदेह जताया है। सत्याग्रहियों ने राज्यपाल और मुख्यमंत्री को मांगपत्र भेजा है। बारिश ने भी उनकी परीक्षा ली, लेकिन वह हटे नहीं बल्कि पालीथिन ओढ़कर चयन बोर्ड के बाहर डटे रहे।

सत्याग्रह का नेतृत्व कर रहे चयनित अभ्यर्थी मृत्युंजय सिंह की अगुवाई में शुक्रवार को उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड के बाहर बलिया से संजीव नारायण, मऊ से जितेंद्र सरोज, गोरखपुर से सर्वेश कुमार, जौनपुर से सुनील कुमार, सुलतानपुर से संतोष कुमार, सोनभद्र से दशरथलाल सत्याग्रह पर बैठे। सभी रुक-रुककर नारेबाजी करते रहे, लेकिन उनकी मांग चयन बोर्ड के चेयरमैन सहित किसी ने नहीं सुनी। शाम को चार चयनित छात्रों के प्रतिनिधि मंडल ने राज्यपाल और मुख्यमंत्री को संबोधित मांग पत्र अपर जिला अधिकारी को सौंपा। साथ में चयन बोर्ड के चेयरमैन को संबोधित ज्ञापन भी दिया गया। मोर्चा अध्यक्ष मृत्युंजय सिंह ने कहा कि सामाजिक विज्ञान के एक हजार से ज्यादा और कला के 393 चयनितों को विद्यालय आवंटन और जिले में पैनल शीघ्र भेजे जाने की मांग पूरी होने पर ही हटेंगे।

यह भी पढ़ेंः  प्राइमरी स्कूलों में छात्रों की सही संख्या का पता लगाए सरकार : अदालत