परिषदीय स्कूल के विद्यार्थियों को अप्रैल में ही मिलेंगी किताबें व यूनीफॉर्म

परिषदीय स्कूलों में अप्रैल से शुरू हो रहे नए सत्र में पहले ही दिन विद्यार्थियों को निश्शुल्क किताबें व यूनीफार्म देने की व्यवस्था की जाए। इसमें लेटलतीफी बिल्कुल बर्दाश्त नहीं की जाएगी। यह निर्देश बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. सतीश चंद्र द्विवेदी ने दिए। गुरुवार को राजधानी के निशातगंज में स्थित बेसिक शिक्षा निदेशालय में उन्होंने विभागीय कार्यो की समीक्षा की।

अधिकारियों को निर्देश दिए कि फरवरी में राज्य स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता का आयोजन किया जाए। मार्च तक हर प्रधानाध्यापक को टैबलेट मिल जाए और 4500 स्कूलों में स्मार्ट क्लास बनाई जाएं, इसके लिए आवश्यक टेंडर प्रक्रिया जल्द पूरी की जाए। टैबलेट मिलने के बाद प्रेरणा एप के माध्यम से ही विद्यालय की संपूर्ण गतिविधियां संचालित होंगी।

बैठक में मंत्री ने आगे तीन महीने के लिए तैयार किए गए इस एक्शन प्लान को बेहतर ढंग से लागू करने के निर्देश दिए। परिषदीय स्कूलों के शिक्षकों के लिए तैयार किए गए प्रशिक्षण माड्यूल निष्ठा के माध्यम से शिक्षकों को मार्च तक प्रशिक्षित किया जाए।

मानव संपदा पोर्टल पर शिक्षिकाओं द्वारा प्रसूति अवकाश व चाइल्ड केयर लीव के लिए आवेदनों का निस्तारण समय पर किया जाए। मंत्री को बताया गया कि अभी तक करीब 55 हजार ने अवकाश के लिए आवेदन किया और उनके प्रकरणों का समय पर निस्तारण किया गया। उन्होंने कहा कि ऐसे खण्ड शिक्षा अधिकारी जो टीचरों को अवकाश देने में जानबूझकर लेटलतीफी करें उन्हें चिह्न्ति कर, कार्रवाई की जाए।

विद्यार्थियों के शैक्षिक स्तर का आंकलन करने के लिए लर्निग आउटकम की दूसरी परीक्षा फरवरी में आयोजित की जाए। विद्यार्थियों का रिपोर्ट कार्ड तैयार कर उनके अभिभावकों को सौंपा जाए ताकि उन्हें भी अपने बच्चे के शैक्षिक स्तर का पता चले।

बैठक में महानिदेशक (स्कूल शिक्षा) विजय किरण आनंद ने समग्र शिक्षा अभियान व कस्तूरबा गांधी विद्यालयों में भौतिक व वित्तीय प्रगति के बारे में जानकारी दी। बेसिक शिक्षा निदेशक सर्वेन्द्र विक्रम सिंह भी बैठक में मौजूद रहे।

स्कूलों में बनेगी स्मार्ट क्लास मार्च में प्रधानाध्यापक को टैबलेट

हजार अवकाश आवेदनों का मानव संपदा पोर्टल के जरिये समय पर निस्तारण

एकेडमिक रिसोर्स पर्सन को भी राज्य स्तरीय पुरस्कार

आवासीय शिक्षा के लिए संचालित एक्सीलरेटेड लर्निग कैंप को और मजबूत कर, यहां पढ़ रहे विद्यार्थियों का राज्य स्तरीय कार्यक्रम आयोजित किया जाए। वहीं इन्हें पढ़ा रहे एकेडमिक रिसोर्स पर्सन को भी राज्य अध्यापक पुरस्कार कार्यक्रम में शामिल किया जाए।

बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार डॉ. सतीश चंद्र द्विवेदी लखनऊ में बेसिक शिक्षा निदेशालय में समीक्षा बैठक करते ’जागरण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.