छात्रों की संख्या बढ़ाने के लिए शिक्षक कर रहे स्कूल चलने की ‘मिन्नत’

  

परिषदीय स्कूलों में छात्रों की संख्या बढ़ाने के लिए इस सत्र में स्कूल चलो अभियान दो चरणों चलेगा। शिक्षक और कर्मचारी जागरूकता अभियान के तहत रैली निकालने के साथ घर-घर जाकर अभिभावकों से बच्चों को स्कूल भेजने की अपील कर रहे हैं। हालांकि, पहले चरण का अभियान पूरा हो चुका है। प्रथम चरण के अभियान में लगभग 1500 बच्चों को चिन्हित किया गया है। 21 मई से दूसरे चरण का अभियान शुरू होगा, जो 30 जून तक चलेगा।

बेसिक शिक्षा निदेशक ने इस सत्र में प्रत्येक परिषदीय विद्यालयों में 15 बच्चे बढ़ाने का लक्ष्य दिया है। इसी क्रम में एक फरवरी से 30 मार्च तक शारदा योजना के तहत पहले चरण का अभियान चला। अभियान के दौरान जनपद में 7 से 14 वर्ष के लगभग 1500 ऐसे बच्चे चिन्हित किए गए जो लगातार 45 दिनों से स्कूल नहीं आ रहे थे अथवा जो पहली बार विद्यालय में पढ़ने के लिए आएंगे। एक से 20 अप्रैल तक इन बच्चों का नामांकन स्कूलों में होना है। इसके बाद इन बच्चों के ज्ञान का स्तर परखने के लिए 21 से 30 तक मूल्यांकन किया जाएगा। ज्ञान का स्तर ठीक न होने पर उन्हें विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा ताकि जिस कक्षा में इनका दाखिला होना है, उसके अनुरूप उनका ज्ञानवर्धन हो सके। दूसरे चरण के अभियान में चिन्हित बच्चों का एक से 20 जुलाई तक नामांकन होगा। 21 से 31 तक ज्ञान स्तर परखने के लिए मूल्यांकन किया जाएगा। खंड शिक्षा अधिकारी (नगर) ज्योति शुक्ला बताती हैं कि पिछले सत्र में प्रत्येक विद्यालय में पांच बच्चे बढ़ाने का लक्ष्य दिया गया था। जिले में परिषदीय विद्यालयों में छात्र-छात्रओं की कुल संख्या करीब 3.15 लाख है।

You may Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *