चिह्न्ति बच्चों को स्कूल लाने की स्थिति अधिकांश जिलों में खराब

प्रयागराज : प्रदेश में आउट ऑफ स्कूल बच्चों का चिन्हीकरण हो चुका है। सभी जिलों में ऐसे बच्चों को हर दिन स्कूल लाने के लिए महत्वाकांक्षी ‘शारदा अभियान’ भी शुरू किया है पर बेसिक शिक्षा अधिकारी ही इसके प्रति गंभीर नहीं हैं। यही वजह है कि सत्र शुरू होने के डेढ़ माह बाद भी मुट्ठी भर बच्चों का ही स्कूलों में नामांकन कराया जा सका है, अधिकांश जिलों की रिपोर्ट ‘शून्य’ के आगे नहीं बढ़ पा रही है।

प्राथमिक स्कूलों में स्कूल आने वालों के साथ ही आउट ऑफ स्कूल बच्चों का भी नामांकन कराने का जिम्मा है। सर्व शिक्षा अभियान के राज्य परियोजना कार्यालय ने इस बार आउट ऑफ स्कूल को हर दिन स्कूल लाने के लिए ‘शारदा अभियान’ शुरू किया है। इसी के तहत प्रदेश में हाउस होल्ड सर्वे कराकर ऐसे बच्चों को चिन्हित किया गया है। जिलावार उनकी संख्या बेसिक शिक्षा अधिकारियों को भेजकर स्कूलों में दाखिला दिलाने का जिम्मा सौंपा। राज्य परियोजना निदेशक डा. वेदपति मिश्र ने बच्चों के नामांकन की मॉनीटरिंग करने के लिए शारदा वेब पोर्टल तैयार कराया और दो मई को बीएसए को निर्देश दिया कि वे इसी पोर्टल पर नामांकन की रिपोर्ट हर दिन अपलोड करें। इस पोर्टल का 13 मई तक नियमित अनुश्रवण किया गया तो कई जिलों की डाटा इंट्री शून्य मिली है। निदेशक ने सभी बीएसए को पत्र भेजकर इस पर नाराजगी जताई है इसमें यह भी कहा है कि यह अभियान शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता में है डाटा इंट्री तेजी से कराएं।

शारदा पोर्टल पर यह स्थिति

  • छह वर्ष तक के चिन्हित बच्चे – 193666
  • छह वर्ष तक के चिन्हित बच्चे – 193666
  • छह वर्ष तक के नामांकित बच्चे – 13089
  • सात से 14 वर्ष तक के चिन्हित बच्चे – 97882
  • सात से 14 वर्ष तक के नामांकित बच्चे – 5290
  • हाउस होल्ड सर्वे में कुल चिन्हित बच्चे – 291548
  • हाउस होल्ड सर्वे में चिन्हित बच्चों में से नामांकन – 18379

इन जिलों में नामांकन की रिपोर्ट शून्य

जौनपुर, बदायूं, श्रवस्ती, बहराइच, बरेली, गोंडा, बलिया, वाराणसी, गोरखपुर, आजमगढ़, कानपुर नगर, सीतापुर, सोनभद्र, बांदा, महराजगंज, कौशांबी, प्रयागराज, प्रतापगढ़, मऊ, सिद्धार्थनगर, मीरजापुर, लखनऊ, संभल, रायबरेली, चित्रकूट, झांसी, हापुड़, सुलतानपुर, महोबा, कन्नौज, फैजाबाद, संतकबीर नगर, जालौन, मुरादाबाद, मुजफ्फर नगर, चंदौली, अमेठी, अंबेडकर नगर, बागपत, कानपुर देहात, बिजनौर, रामपुर, गाजीपुर, फरुखाबाद, एटा, उन्नाव व इटावा।

0 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.