इलाहाबाद विश्वविद्यालय में ऑनलाइन मोड में परीक्षा कराने की तैयारी शुरू

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में ऑनलाइन मोड में परीक्षा कराने की तैयारी शुरू हो गई है। 15 मार्च से परास्नातक की सेमेस्टर परीक्षा और 15 अप्रैल से स्नातक की परीक्षाएं प्रस्तावित हैं। अब यह सभी परीक्षाएं ऑनलाइन मोड़ में आयोजित की जाएंगी। इसके लिए पांच फरवरी को कुलपति प्रो. संगीता श्रीवास्तव की अध्यक्षता में होने वाली परीक्षा समिति की बैठक में अंतिम मुहर लगेगी।

ज्ञात हो कि पूर्व में हुई परीक्षा समिति की बैठक में ऑफलाइन मोड में परीक्षा कराने का निर्णय लिया गया था। इसी बीच एक हॉस्टल और एफसीआई बिल्डिंग में कोरोना संक्रमित मिलने के कारण बैक पेपर स्थगित कर दिए गए। पीआरओ डॉ. जया कपूर ने बताया कि कोविड-19 की नई सरकारी गाइडलाइन में कोई फेरबदल न होने के कारण विश्वविद्यालय की ओर से आगामी परीक्षाएं ऑनलाइन मोड में ही आयोजित कराए जाने पर विचार किया जा रहा है।

यह भी पढ़ेंः  राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ ने गुरुवार को राज्य कर्मचारी के दर्जे समेत कई मांगों को लेकर आवाज उठाई

15 मार्च से आयोजित होने वाली पोस्ट ग्रेजुएट सेमेस्टर की परीक्षाएं भी ऑनलाइन मोड में होने की संभावना है। ब्रिटेन में कोविड 19 की दूसरी लहर आने के बाद भारत सरकार ने सतर्कता बरतने के उपायों में कोई ढील न देने का फैसला किया है। ऐसी गाइडलाइन के अंतर्गत छात्रों को हॉस्टल की सुविधा यहां मुहैया कराना संभव नहीं होगा। इसके साथ ही स्नातक की द्वितीय परीक्षा भी ऑनलाइन मोड में ही आयोजित की जाएगी। परीक्षा की तिथियां परीक्षा समिति की 5 फरवरी को आयोजित होने वाली आगामी बैठक में निर्धारित की जाएंगी।

बीसीए, पीजीडीएस की परीक्षा 9 फरवरी से
डॉ. कपूर ने बताया जिन पाठ्यक्रमों में छात्रों की संख्या कम है। उनकी परीक्षा ऑफलाइन मोड़ में करायी जाएगी। इसलिए बीसीए पांचवा और पीजीडीसीए प्रथम सेमेस्टर की परीक्षा नौ फरवरी से ऑफलाइन मोड़ में होगी। परीक्षा आईपीएस के कम्प्यूटर सेंटर में आयोजित की जाएगी।

यह भी पढ़ेंः  इविवि के संघटक महाविद्यालयों में शिक्षकों एवं शिक्षणेत्तर कर्मचारियों के रिक्त पदों पर जल्द शुरू होगी भर्ती