हाईस्कूल की नौकरी के लिए पीएचडी की कतार

हाईस्कूल पास अर्हता की डिलिवरी ब्याय की नौकरी के लिए स्नातक और परास्नातक ही नहीं, पीएचडी भी जब कतार में नजर आएं, तो समझा जा सकता है कि यहां नौकरी की मारामारी का क्या आलम है। कंप्यूटर ऑपरेटर की नौकरी के लिए नेट क्वालिफाई करने वालों के साथ ही पीएचडी बेरोजगार भी लाइन में खड़े हैं।

बुधवार को लालबाग के क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय में वृहद रोजगार मेला लगाया गया। 300 पदों पर भर्ती के लिए सात निजी कंपनियों के प्रतिनिधियों ने साक्षात्कार शुरू किया तो देर शाम तक साक्षात्कार चलता रहा, लेकिन बेरोजगारों की कतार कम नहीं हुई। किसी के पास योग्यता थी तो उसे काम नहीं पसंद था, वहीं कुछ के पास कंप्यूटर की बेसिक जानकारी न होने से नौकरी नहीं पा सका। 800 बेरोजगारों में से 278 युवाओं को नौकरी दी गई। योग्य उम्मीदवार न होने से उन्हें रिक्तियों के साथ वापस जाना पड़ा।

क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय की ओर से लगाए गए वृहद रोजगार मेले की शुरुआत विशेष सचिव श्रम एमके सिंह और संयुक्त सचिव श्रम जयशंकर द्विवेदी ने की। सहायक निदेशक सेवायोजन सुधा पांडेय व जिला सेवायोजन अधिकारी शशि तिवारी के साथ उन्होंने साक्षात्कार लेने आए कंपनी के प्रतिनिधियों और नौकरी की आस में आए बेरोजगार युवाओं से भी फीडबैक लिया। नौकरी की लाइन में आर्ट, विज्ञान और कॉमर्स में स्नातक के अलावा हाईस्कूल और इंटर के भी युवा कतार में लगे रहे।

घर की मजबूरी, नौकरी करना है जरूरी : कम योग्यता वाली नौकरी के लिए उच्च योग्यता रखने वालों का कहना था कि घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। प्रशासनिक सेवाओं की तैयारी करने में पैसा खर्च होता है, कितना खर्च होगा इसका अंदाजा नहीं लगाया जा सकता। राकेश कुमार और सुधीर राजधानी में रहकर प्रशासनिक सेवाओं की तैयारी कर रहे हैं। हरदोई के बिलग्राम से आकर तैयारी करना और जेब खर्च के लिए पैसे का इंतजाम करना पहली प्राथमिकता है। उनका कहना है कि कभी मेंस में आकर साक्षात्कार में छंट जाते हैं तो कभी प्री क्वालीफाई भी नहीं हो पाता।

स्कूलों में होगी काउंसिलिंग : सेवायोजन विभाग की ओर से लखनऊ विश्वविद्यालय से संबद्ध सभी महाविद्यालय और डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम विश्वविद्यालय से संबद्ध सभी कॉलेजों को भेजे गए पत्र में सेवायोजन कार्यालय के पोर्टल पर पंजीयन के साथ ही कॅरियर काउंसिलिंग कराने के लिए कहा गया है। इंटर कॉलेज के छात्रों के साथ ही सेवायोजकों (नौकरी देने वाली सरकारी, अर्धसरकारी व निजी संस्थान) को भी विभाग के पोर्टल पर अनिवार्य रूप से पंजीयन सुनिश्चित कराने के लिए डीएम को भी पत्र भेजा है। भर्ती की सूचना न देने वाली संस्थानों पर रिक्तियों का अनिवार्य अधिसूचना अधिनियम-1959 के तहत कार्रवाई का भी प्रावधान है। छात्रों के साथ ही नौकरी देने वाली संस्थाएं सेवायोजन विभाग के पोर्टल (सेवायोजन.यूपी.एनआइसी.इन) पर ऑनलाइन पंजीयन करा सकती हैं।

युवाओं को मिलेगा लाभ : सेवायोजन विभाग की इस पहल से कॅरियर के चुनाव को लेकर युवाओं को सहूलियत होगी। वेब पोर्टल पर ही पढ़े-लिखे बेरोजगार भी नौकरी के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। इसी वेबसाइट पर नौकरी देने वाली संस्था को भी मांग के अनुरूप ऑनलाइन युवा मिल जाएंगे। सहायक निदेशक सेवायोजन सुधा पांडेय ने बताया कि सभी स्कूलों के साथ ही लविवि और एकेटीयू से संबद्ध कॉलेजों को पत्र भेजा गया है।

लालबाग स्थित क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय में कुछ इस तरह लगी रही कतार एवं युवकों को जानकारी देतीं सहायक निदेशक सेवायोजन सुधा पांडे ’ जागरण

लालबाग स्थित क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय में लगा वृहद रोजगार मेला श्रम विभाग के विशेष और संयुक्त सचिव ने की शुरुआत

खुद का रोजगार शुरू करने के लिए अब बजट रुकावट नहीं बनेगा। पांच वर्षो की त्रैमासिक किस्तों में आप लाखों रुपये लोन ले सकेंगे। युवाओं को रोजगार से जोड़ने के लिए करीब 13 वर्षो बाद टर्मलोन ऋण योजना फिर से शुरू की गई है। अल्पसंख्यक समुदाय (मुस्लिम, सिक्ख, इसाई, बौद्ध, पारसी व जैन) के युवक-युवतियों को छह प्रतिशत वार्षिक दर से एक लाख रुपये से 20 लाख रुपये तक टर्मलोन मिल सकेगा। इसके लिए 25 दिसंबर से पहले आवेदन करना होगा। बाद में स्वीकार्य नहीं होंगे।

इच्छुक युवक-युवतियां कलेक्ट्रेट (कक्ष संख्या 23) में जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी कार्यालय से आवेदन पत्र प्राप्त कर सकते हैं। टर्मलोन ऋण योजना वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए प्रदेश से 1275 लाभार्थियों को लाभांवित किया जाएगा। इसमें सर्वाधिक लखनऊ के 60 बेरोजगारों का चयन किया जाएगा। इसके लिए जनपद को 90 लाख का बजट आवंटित किया गया है। जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी बालेंदु कुमार ने बताया कि लाभार्थियों को पांच वर्षो में 20 समान त्रैमासिक किस्तों में ऋण वापसी की सुविधा दी जाएगी।

राजधानी पर एक नजर

  • 72 हजार पंजीकृत बेरोजगार
  • 104-केंद्रीय कार्यालय
  • 30-राज्य कार्यालय
  • 336-अर्ध सरकारी केंद्रीय कार्यालय
  • 283-अर्ध सरकारी राज्य कार्यालय
  • 124-स्थानीय निकाय कार्यालय
  • 248-निजी संस्थानों के कार्यालय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.