शिक्षक भर्ती में गलत उत्तर पर अंक देकर किया उत्तीर्ण

प्रदेश की योगी सरकार के कार्यकाल हुए पहली सबसे बड़ी शिक्षक भर्ती में परीक्षा संस्था ने जिस तरह से नियमों की धज्जिया उड़ाई और गुणवत्ता की अनदेखी की, कापियां जांचने वाले परीक्षक उससे दो कदम आगे ही निकले। गलत उत्तर लिखने वाले अभ्यर्थी को सही अंक दे दिए, किसी के उत्तर में मात्रत्मक त्रुटि होने के बावजूद सही अंक देकर कापी आगे बढ़ा दी। इस तरह काम करने से सैकड़ों योग्य अभ्यर्थियों का भविष्य अंधकार में डूब जायेगा।

शिक्षक भर्ती परीक्षा में व्यापक पैमाने पर हुई अनियमितताओं की जाँच रिपोर्ट तो अभी तक नहीं आ सकी है लेकिन अभ्यर्थियों के घर पहुंच रहीं स्कैंड कापियां से पता चल रहा है कि 68500 शिक्षक भर्ती में किस स्तर गड़बड़िया हुई है। मूल्यांकन करने वाले परीक्षकों और परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय द्वारा जारी उत्तर कुंजी आपस में मेल नहीं खा रही है। 68500 शिक्षक भर्ती में हुई गड़बड़ियों से परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय की साख गिरी है। स्कैंड कापियां की खामिया बता रही है कि परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय को सौ में से कितने अंक मिलने वाले हैं।

यह भी पढ़ेंः  68500 सहायक अध्यापक भर्ती के लिए बनाई गाइड लाइन पर सरकार से जवाब तलब

जालौन निवासी अभ्यर्थी नीतेश कुमार (अनुक्रमांक 9410401883) की ‘सी’ सीरीज की कापी में प्रश्न संख्या 146 में उत्तर विकल्प ‘अक्षय कुमार ज्योति’ पर निशान लगाने पर अंक मिल गए जबकि, उत्तर कुंजी के अनुसार सही उत्तर ‘ममता कालिया’ है।

अभ्यर्थी रबिया खातून (अनुक्रमांक 5704013334) ‘बी’ सीरीज के प्रश्न संख्या 137 में गाइडर की भूमिका पर सही अंक मिले हैं जबकि उत्तर कुंजी में यह नहीं है। प्रश्न संख्या 57 में अभ्यर्थी को ‘शिकांगो’ विकल्प पर निशान लगाने पर सही अंक दिए गए जबकि शहर का असल नाम ‘शिकागो’ है।

अभ्यर्थी कु.संजू यादव (अनुक्रमांक 2530604018) को ‘बी’ सीरीज के प्रश्न संख्या 60 में विकल्प ‘अंचल कुमार ज्योति’ पर निशान लगाने पर सही अंक दिए गए जबकि उत्तर कुंजी के अनुसार इसका सही विकल्प अचल कुमार ज्योति है।

यह भी पढ़ेंः  टीचर एसोसिएशन ने जेबीटी शिक्षकों की डयूटी गैर शैक्षणिक कार्यों में लगाने का किया विरोध

अभ्यर्थी अनूप सिंह, विशाल प्रताप, आदेश सिंह, अंकित सिंह, अंकित वर्मा आदि का कहना है कि कटिंग, ओवर राइटिंग, मात्रत्मक त्रुटि पर उन सभी को फेल किया गया है जबकि अब कापियां सामने आ रही हैं तो उसी प्रकार की गलतियों पर अन्य अभ्यर्थियों को उत्तीर्ण करने के मामले सामने आ रहे हैं। अभ्यर्थियों की मानें तो दोषियों पर कार्रवाई में देरी की जा रही है। News Source – Dainik Jagarn