आधा-अधूरा फीड हो रहा शिक्षकों का डाटा

  

शिक्षकों के समायोजन में एनआईसी की वेबसाइट पर आधा अधूरा डेटा फीड किया जा रहा है। सैलरी डेटा में सरप्लस शिक्षकों व जोन के सिंगहांकन, पैन और आधार नंबर भरते हुए इसे फीड किया जाना था, लेकिन कई जिलों में ऐसा नहीं हो रहा है। जिसको लेकर शासन के संयुक्त सचिव अशोक कुमार गुप्ता ने बीएसए को निर्देश दिए हैं।

इस बाबत कहा गया है कि एनआइसी द्वारा मुहैया कराए गए लिंक के माध्यम से डाउनलोड किए गए साफ्टवेयर में बगैर प्रविष्टियों के ही डाटा अपलोड किया जा रहा है, जो बेहद खेद व घोर का प्रतीक है। संयुक्त सचिव ने बीएसए को स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि वह तय कर लें कि सैलरी डाटा को एनआइसी की वेबसाइट पर अपलोड कराने से पूर्व सभी प्रविष्टियां पूरी तरह से भरी गई हैं।

बता दें कि परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों की समायोजन और स्थानांतरण प्रक्रिया साफ-सुथरे तरीके से हो, इसके लिए साफ्टवेयर में डाटा फीड करने के निर्देश दिए गए थे। साफ्टवेयर में अपलोड की गई प्रविष्टियों को एकत्रित करके उसे परिषदीय कार्यालय ई-मेल के जरिये भेजने के निर्देश दिए गए थे।

संयुक्त सचिव ने बीएसए को निर्देशित किया है कि शिक्षकों के समायोजन व स्थानांतरण की प्रक्रिया इसी साफ्टवेयर से की जाएगी, जिसके कारण निर्देशों के अनुरूप कार्रवाई करना सुनिश्चित कराएं। बीएसए पन्ना राम ने बताया कि एनआइसी के साफ्टवेयर पर सभी प्रविष्टियों को सही तरीके से फीड कराए जाने के निर्देश पहले ही दिए जा चुके हैं। ’संयुक्त सचिव ने बीएसए को दिए पूरा डाटा फीड कराने के निर्देश1’ बगैर प्रविष्टियों के डाटा फीडिंग का लिया संज्ञान

You may Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *