उत्तर पुस्तिका गलत तरीके से जांचने पर दो परीक्षकों के खिलाफ न्यायालय ने अहम फैसला

UP Boardबाराबंकी : यूपी बोर्ड परीक्षा में उत्तर पुस्तिका गलत तरीके से जांचने पर दो परीक्षकों के खिलाफ न्यायालय ने अहम फैसला दिया है। दोनों परीक्षक पांच वर्ष तक जांच कार्य नहीं कर सकेंगे। दोनों को 50-50 हजार रुपये जिविनि कार्यालय में जमा करने होंगे। वर्ष 2020 की परीक्षा में अजीमुद्दीन अशरफ इस्लामिया इंटर कालेज के मुहीबुद्दीन खान और डीएवी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के उप प्रधान घनश्याम ने त्रुटिपूर्ण मूल्यांकन किया।

यह भी पढ़ेंः  बोर्ड पर बने काटरून बच्चों को पढ़ा रहे पाठ