एनसीटीई को नहीं मिला शिक्षक पात्रता परीक्षा को आजीवन मान्य किए जाने का प्रस्ताव

शिक्षक पात्रता परीक्षा आजीवन मान्य किए जाने के सवाल पर उन्होंने सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी से इस बारे में जानकारी लेने के बाद बताया कि राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद(एनसीटीई) की ओर से जो प्रस्ताव पास किया गया था, उसे राज्यों को अभी तक नहीं भेजा गया है। ऐसे में अब तय हो गया है कि यूपीटीईटी 2020 को आजीवन मान्य नहीं किया जा सकेगा। सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी की ओर से यूपीटीईटी 2020 को सात मार्च 2021 को कराने का प्रस्ताव शासन के पास भेजा गया है। ऐसे में अब तय है कि आवेदन की घोषणा से पहले इस मुद्दे पर फैसला लेना मुश्किल होगा। टीईटी के आजीवन मान्य किए जाने की बात पर विजय किरन आनंद ने कहा कि यदि ऐसा हुआ तो शिक्षक पात्रता परीक्षा में भीड़ कम होगी। महानिदेशक ने परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय का निरीक्षण करने के बाद कार्यालय में संसाधन बढाए जाने एवं कम अभ्यर्थियों वाली परीक्षा को खत्म करने का सुझाव दिया।