अब नियुक्ति के लिए संघर्ष कर रहे हैं 880 चयनित

  

उत्तर प्रदेश में आज काल शिक्षक भर्ती का बोलबाला चल रहा है हर कोई अपनी मर्ज़ी के अनुसार शिक्षक भर्ती की समीक्षा कर रहा है। बेसिक शिक्षा विभाग में भी यही चल रहा है। शिक्षक भर्ती को लेकर बेसिक शिक्षा विभाग में उल्टी गंगा बह रही है। जहाँ एक ओर राजनीतिक दल रोजगार को लेकर आमने-सामने हैं, वहीं अधिकारी चयनितों को नियुक्ति देने में आनाकानी कर रहे हैं। प्रदेश के 880 चयनितों उम्मीदवारों ने गुरुवार को शिक्षा निदेशालय में उग्र प्रदर्शन किया है। शासन ने बीस दिन पहले उनका विभाग आवंटन कर दिया है लेकिन, उन्हें ज्वाइन कहां करना है ये अभी तक तय नहीं हो पाया है।

उप्रस्थ सेवा चयन आयोग लखनऊ ने कनिष्ठ सहायक सामान्य चयन परीक्षा 2016 की थी। 13 अक्टूबर 2018 को 4054 पदों का परिणाम जारी कर दिया गया है। चयनित कनिष्ठ सहायकों को प्रदेश के 27 विभागों में आवंटित करने के लिए परीक्षा संस्थान ने सूची भेजी। 31 जनवरी को शासन ने विभागवार आवंटन भी कर दिया है। उसके बाद से अभयर्थी नियुक्ति पाने की राह देख रहे थे। अन्य विभागों ने नियुक्ति प्रक्रिया में तेजी से नियुक्तियों शुरू कर दी है। लेकिन, बेसिक शिक्षा के मंडलीय कार्यालय में 880 चयनितों की नियुक्ति प्रक्रिया अब तक शुरू नहीं हो सकी है। अभयर्थी इससे अच्छे खासे परेशान हैं। प्रदेश के चयनितों ने शिक्षा निदेशालय प्रयागराज में अपर निदेशक बेसिक शिक्षा के कार्यालय पर उग्र प्रदर्शन करके नियुक्ति मांगी। उनका कहना है कि अगले महीने लोकसभा चुनाव की आचार संहिता प्रभावी हो जाएगी और वे पांच महीने तक नियुक्ति नहीं करेंगे। अभयर्थियों ने बेमियादी अनशन शुरू किया है और एलान किया है कि जब तक उन्हें विभाजन आवंटित नहीं होगा, वे यहां नहीं जाएंगे।

You may Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *