फिलहाल नई भर्ती पर कोई विचार नहीं -उप्र बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल

मुरादाबाद : उप्र की शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल ने कहा कि बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को आधार से लिंक कर रहें हैं। इससे बच्चों के फर्जी नामांकन पर रोक लगी है। आधार से बच्चे लिंक होने पर शिक्षक भी 65000 अतिरिक्त निकलकर आए हैं। इससे फिलहाल नए शिक्षकों की भर्ती करने का विचार अभी नहीं है। वह यहां सर्किट हाउस में अमरोहा में मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में शामिल होने से पहले कुछ देर के लिए रुकी थीं। दैनिक जागरण से बातचीत में सपा सरकार पर निशाना साधा, बोली कि पूर्व की सरकार में छात्र संख्या बढ़ाने के लिए फर्जी नामांकन पर ध्यान नहीं दिया गया लेकिन हमारी सरकार इस पर फोकस करते हुए काम कर रही है। ताकि योजनाओं का लाभ वास्तविक छात्रों को मिले।

आधार लिंक होने से छात्र संख्या घटेगी और स्कूलों में फर्जी नामांकन का खुलासा होगा। उन्होंने बताया कि बेसिक शिक्षा का स्तर सुधारने के लिए शिक्षकों की सौ फीसद उपस्थिति सुनिश्चित कराने पर जोर है। अब प्रदेश के कई शहरों में स्कूलों का निरीक्षण किया था, जिसमें शिक्षक अपने विषय के बारे में नहीं बता पाए थे। यह काफी अफसोसजनक है। ऐसे शिक्षकों को प्रशिक्षण देने के लिए मॉडयूल प्रोग्राम बनाए जाएंगे। शिक्षक भर्ती पर बोलीं कि अतिरिक्त शिक्षकों की संख्या बहुत ज्यादा है।

इसलिए फिलहाल नई भर्ती पर कोई विचार नहीं है। गैर शैक्षणिक कार्यो में शिक्षकों को लगाने पर बोलीं कि इसके लिए शिक्षक खुद जिम्मेदार हैं। बेसिक शिक्षकों के प्रति ऊपर तक एक छवि बन चुकी है कि वह स्कूलों में नहीं जाते। इसीलिए उनको दूसरे कामों में लगा दिया जाता है। शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने पर ध्यान देंगे तो उनसे दूसरे काम नहीं लिए जाएंगे। शिक्षकों के हितों की हम सोचेंगे, शिक्षक सिर्फ शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार करें। इस दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष हरिओम शर्मा मौजूद रहे।Teachers Recruitment in Primary School

50 Shares

One thought on “फिलहाल नई भर्ती पर कोई विचार नहीं -उप्र बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल

  1. Prashant

    Ye to B.ed, BTC, CTET and UPTET pass Karne walon ke sath Sahi nahi ho raha h. Govt ko vacancy to nikalni chahiye.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.