स्कूलों के कायाकल्प में लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी

बलरामपुर। स्कूलों के कायाकल्प में लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। आपरेशन कायाकल्प के तहत जिले के सभी स्कूलों को चाक-चौबंद कराने का जिम्मा सभी ब्लॉकों के बीडीओ, बीईओ, एडीओ पंचायतों व ग्राम पंचायत सचिवों को सौंपा गया है। सभी लोग समन्वय स्थापित करके स्कूलों को चाक-चौबंद कराने में जुट जाएं। आउट आफ स्कूल बच्चों का विवरण शारदा एप पर अपलोड कराएं। केजीबीवी में भी बेटियों की शिक्षा के लिए सभी संसाधन मुहैया कराए जाएं। अंग्रेजी माध्यम वाले स्कूलों में शिक्षक-शिक्षिकाओं की तैनाती कराएं।

यह बातें सीडीओ रिया केजरीवाल ने बुधवार को विकास भवन सभागार में जिला शिक्षा व अनुश्रवण समिति के बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही। जिले के 1837 प्राथमिक, उच्च प्राथमिक व कंपोजिट स्कूलों में मूलभूत अवस्थापना संबंधी 14 सुविधाओं को पूरा कराने के साथ सीडीओ ने फील्ड में आने वाली समस्याएं सुनकर उनका निराकरण कराने का निर्देश दिया। एक जुलाई से बिना बच्चों के स्कूलों को खोला जाएगा।

जिला व ब्लॉक स्तरीय टॉस्क फोर्स निरीक्षण कर रिपोर्ट उपलब्ध कराएगी जिसके आधार पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी। बैठक का संचालन करते हुए बीएसए डॉ. रामचंद्र ने कहा कि आपरेशन कायाकल्प के साथ सपोर्टिव सुपरविजन व अकादमिक कार्यक्रमों का क्रियान्वयन किया जा रहा है। एसआरपी, एसआरजी व डायट मेंटर की तरफ से हर माह स्कूलों का निरीक्षण किया जा रहा है। शिक्षा के लिए डिजिटल पहल की गई है। प्रत्येक स्कूल में व्हाट्सएप ग्रुप का संचालन हो रहा है। स्मार्ट क्लास चलाए जा रहे हैं।
जिले के सभी 10 शिक्षा क्षेत्रों में एम-स्थापना मोबाइल एप से ऑनलाइन अवकाश स्वीकृत किए जा रहे हैं। दिव्यांग छात्र-छात्राओं को स्पेशल एजुकेटर्स से पढ़वाया जा रहा है। बैठक में पीडी अनिल कुमार सिंह, डीपीओ केएम पांडेय, जिला युवा कल्याण अधिकारी प्रदीप कुमार त्रिपाठी, अपर डीपीआरओ नरेश चंद्र, डीसी निरंकार पांडेय, मोहित देव त्रिपाठी, एनके सिंह, फिरोज अहमद, आभा त्रिपाठी, बीईओ महेंद्र कुमार सहित सभी बीईओ आदि मौजूद रहे।