यूपी बोर्ड करीब सवा करोड़ छात्र-छात्राओं के लिए एनसीसी का कोर्स शुरू करेगा

यूपी बोर्ड करीब सवा करोड़ छात्र-छात्राओं के लिए एनसीसी का कोर्स शुरू करने जा रहा है। गुरुवार को हुई पाठ्यक्रम समिति की बैठक में इसकी विषयवस्तु तैयार करने पर चर्चा हुई। लेकिन अभी इस बात का फैसला नहीं हो पाया इसको अनिवार्य विषय के रूप में रखा जाये या फिर वैकल्पिक विषय रूप में रखा जाये

एनसीसी का कोर्स शासन के निर्देश पर कराया जा रहा है। वर्तमान में एनसीसी एक चैप्टर सैन्य विज्ञान कोर्स में है। लेकिन इसका लाभ छात्रों को नहीं मिल पा रहा। Intermediate स्तर पर उपलब्ध सैन्य विज्ञान में 2019 की बोर्ड परीक्षा के लिए महज 4628 परीक्षार्थी पंजीकृत थे जिनमें से 3715 सफल रहे।

एनसीसी का कोर्स बनाने के लिए यूपी बोर्ड ने सीबीएसई से भी संपर्क किया है। बोर्ड इसे खेल एवं शारीरिक शिक्षा विषय की तरह भी लागू कर सकता है। यह विषय 10वीं-12वीं के सभी विद्यार्थियों के लिए अनिवार्य है और इसकी परीक्षा विद्यालय स्तर पर आतंरिक रूप से ली जाती है।

सचिव नीना श्रीवास्तव ने बताया कि एनसीसी के लिए पाठ्यक्रम समिति की बैठक हुई है। विषय विशेषज्ञों की रिपोर्ट शासन को भेजेंगे और निर्देश मिलने के बाद शुरू किया जाएगा।

ये भी पढ़ें : UP board exam policy will come next week

चुनिंदा स्कूलों में बच्चों *को मिलती है ट्रेनिंग वर्तमान में एनसीसी की ट्रेनिंग चुनिंदा स्कूलों में दी जाती है। एक बटालियन एक-दो या अधिक स्कूलों में ट्रेनिंग देता है। कक्षा 9 व 10 के लिए जूनियर डिविजन और कक्षा 11 व 12 के छात्रों को सीनियर डिवीजन में रखा जाता है। कक्षा 9 व 10 के बच्चों को दो साल की ट्रेनिंग पर ए सर्टिफिकेट, 11 व 12 के बच्चों को दो साल की ट्रेनिंग पर बी सर्टिफिकेट व स्नातक स्तर पर एक साल की ट्रेनिंग पर सी सर्टिफिकेट मिलता है। असिस्टेंट एनसीसी ऑफिसर मनोज सिंह के अनुसार स्नातक स्तर पर यदि किसी ने सीधा एनसीसी में प्रवेश लिया है तो तीन साल की ट्रेनिंग के बाद सी सर्टिफिकेट मिलता है।

पहल ‘ शासन के निर्देश पर विषय विशेषज्ञों की हुई बैठक ‘ अभी सैन्य विज्ञान कोर्स में एनसीसी का है एक चैप्टर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.