परिषदीय स्कूलों में पंजीयन ज्यादा और उपस्थिति मिलती कम

अंबेडकरनगर : जहांगीरगंज शिक्षाक्षेत्र के परिषदीय विद्यालयों में संसाधनों अभाव और शिक्षण गुणवत्ता समेत भी अनुशासन बेपटरी है। शौचालय समेत गंदगी की समस्या को अभी भी दूर नहीं किया जा सका है। सुरक्षा के मानकों में जर्जर भवन और चहारदीवारी विहीन विद्यालय छात्र-छात्रओं के लिए खतरा हैं। स्कूलों में छात्रों का पंजीयन ज्यादा और उपस्थिति हमेशा कम दिखती है। उधर सर्दी हावी होने लगी है, लेकिन छात्रों को विभाग से स्वेटर नहीं मिल सका है।

दृश्य एक : प्राथमिक विद्यालय अलाउद्दीनपुर में पंजीयन के सापेक्ष उपस्थिति कम है। 62 पंजीकृत बच्चों में केवल 36 उपस्थित मिले। प्रधानाध्यापक चंद्रशेखर आजाद उपस्थित नहीं मिले। बताया गया वह राशन लेने कोटेदार के पास गए हैं। विद्यालय का भवन जर्जर है। छत का प्लास्टर टूटकर गिर रहा है। लिहाजा यहां बच्चे विद्यालय के बाहर पढ़ते हैं। बच्चे जमीन पर भोजन कर रहे थे। चहारदीवारी नहीं बनी है। बच्चों को स्वेटर नहीं मिला है।

दृश्य दो : प्राथमिक विद्यालय देवरिया लाला में 68 बच्चों का पंजीकरण है। इसमें महज 20 ही उपस्थित थे। प्रभारी प्रधानाध्यापक तमन्ना जायसवाल दो दिनों से अवकाश पर बतायी गई। विद्यालय पहुंचने को पगडंडी सहारा है। सहायक अध्यापक आनंद पांडेय ने बताया छात्रों के लिए स्वेटर अभी नहीं मिला है।

दृश्य तीन : उच्च प्राथमिक विद्यालय भभौरा में बच्चों का पंजीकरण 102 है। इसके सापेक्ष 70 बच्चे उपस्थित मिले। इंडिया मार्का-टू हैंडपंप खराब है। बच्चे दूसरे स्कूल में लगे हैंडपंप पर पानी पीते हैं। शौचालय का मरम्मत नहीं किया गया है। प्रधानाध्यापक सविता पांडेय ने बताया रिबोर के लिए कई बार कहा गया, लेकिन कोई ध्यान नहीं दे रहा है।

दृश्य चार : प्राथमिक विद्यालय देवरिया पंडित में पंजीकृत 64 के सापेक्ष 49 बच्चे उपस्थित मिले। शौचालय अधूरा पाया गया। प्रधानाध्यापक अभिषेक यादव ने बताया स्वेटर नहीं बंटा है।

उच्च प्राथमिक विद्यालय भभौरा में खराब पड़ा इंडिया मार्का-टू हैंडपंप ’ जागरण

विद्यालयों में सुविधा और संसाधनों को नियमित तौर पर दुरुस्त रखने का निर्देश दिया जाता है। पंजीयन के सापेक्ष छात्रों की उपस्थिति सुनिश्चित कराई जाती है। शिक्षण गुणवत्ता तथा शिक्षकों के गायब रहने से संबंधित मामले को संज्ञान में लेकर जांचोपरांत कार्रवाई होगी। जागरण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.