शिक्षक भर्ती घोटाले का राजदार कमरा खुला

मथुरा: शिक्षक भर्ती घोटाले का राजदार कमरा सोमवार को एसटीएफ, पुलिस, प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में खोला गया। साढ़े सात घंटे तक कमरे को खंगालने के बाद पुलिस ने संबंधित दस्तावेजों को कब्जे में ले लिया है। पुलिस 12 हजार शिक्षक भर्ती घोटाला में जांच कर रही है। घोटाले के प्रकाश में आने के बाद ही बीएसए कार्यालय के कमरे को सील कर दिया गया था। पुलिस की मौजूदगी में खोलने का नोटिस चस्पा कर दिया था। पुलिस को सूचनाएं मिल रही थीं कि भर्ती घोटाले का रैकेट दस्तावेजों को नष्ट करना चाहता है।

सोमवार को यह कमरा एसटीएफ प्रभारी आलोक प्रियदर्शी, एसपी देहात आदित्य कुमार, एडीएम प्रशासन आदित्य कुमार, सीओ महावन आलोक दुबे, बीएसए चंद्रशेखर और मथुरा के पूर्व बीएसए संजीव कुमार सिंह की मौजूदगी में खोला गया। कमरा और अलमारी खोलने के लिए ताला खोलने वाले को बुलाया गया था। सुबह 11 बजे से शाम करीब साढ़े छह बजे तक एसटीएफ और पुलिस कागजों को जांचती रही। इस बीच एसटीएफ ने पूर्व बीएसए से दस्तावेजों से संबंधित जानकारियां ली।

यह भी पढ़ेंः  एडेड प्राथमिक स्कूलों की भर्ती में हुआ खेल

इन दस्तावेजों से एसटीएफ के हाथ ऐसे तथ्य लग सकते हैं, जो जांच के आगे बढ़ाने में सहायक होंगे। कुछ कर्मचारियों से पूछताछ भी की गई। इसके बाद पुलिस ने इन दस्तावेजों को कब्जे में ले लिया। कमरे से मिले साक्ष्यों के आधार पर भर्ती घोटाले की जांच को आगे बढ़ाया जाएगा। इन दस्तावेजों से कई ऐसे राज पुलिस को मिले हैं, जिनसे घोटाले के रैकेट की कड़ियां पुलिस के हाथ लग सकती हैं। दस्तावेज हाथ आने से कई रहस्य उजागर हो सकते हैं। साक्ष्यों के आधार पर कार्रवाई की जाएगी। कमरे से जो दस्तावेज मिले हैं, इनके आधार पर जांच कर कार्रवाई की जाएगी – आदित्य कळ्मार, एसपी देहात- समाचार स्रोत – दैनिक जागरण

यह भी पढ़ेंः  फर्जी अंकतालिका के साथ आठ जिलों के 19 शिक्षकों पकड़े