विवाहिता पुत्री मृतक आश्रित कोटे में नियुक्ति पाने की हकदार नहीं

Courtइलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक महत्वपूर्ण फैसले में कहा है कि विवाहिता पुत्री मृतक आश्रित कोटे में नियुक्ति पाने की हकदार नहीं है। कोर्ट ने इसके तीन कारण बताए हैं। पहला यह कि शिक्षण संस्थाओं के लिए बने रेग्युलेशन 1995 के तहत विवाहिता पुत्री परिवार में शामिल नहीं है। दूसरा आश्रित कोटे में नियुक्ति की मांग अधिकार के रूप में नहीं की जा सकती। तीसरा कानून के अनुसार विवाहिता पुत्री अपने पति की आश्रित होती है।

यह भी पढ़ेंः  केंद्रीय विद्यालयों में प्रवेश के लिए नया शेड्यूल जारी, यहां देखें डिटेल्स व आर्डर