इंटरव्यू के बाद भी चयन बोर्ड ने किया अनुपस्थित

प्रयागराज : जिस अभ्यर्थी ने लिखित परीक्षा व साक्षात्कार में बेहतर नहीं कर पाए, उसका अनुत्तीर्ण होना लाजिमी है लेकिन, सोचने वाली बात तो यह है कि जिसने साक्षात्कार दिया उसको भी madhyamik shiksha sewa chayan board ने अनुपस्थित करार देकर फेल कर दिया है। किराए के मकान में रहकर प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने वाला शख्स आठ वर्ष से रिजल्ट का इंतजार कर रहा था। जब परिणाम आया तो उसे देखकर अभ्यर्थी होश उड़ गए।

हम बात कर रहे है राजकरन मिश्र जोकि अयोध्या जिले के बरवा-बसैतापुर गांव के निवासी है। राजकरन मिश्र प्रयागराज में लंबे समय से रहकर प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। प्रशिक्षित स्नातक शिक्षक बनने के लिए उन्होंने 2011 में आवेदन किया। उन्होंने 16 जून 2016 सामाजिक विज्ञान विषय की लिखित परीक्षा दी। 15 फरवरी 2019 उनका इंटरव्यू हुआ। राजकरन की मानें तो साक्षात्कार अच्छा होने से वह चयन की उम्मीद संजोए थे लेकिन जैसे ही 10 अप्रैल को जारी अंतिम परिणाम जारी हुआ उसे देखकर वह अवाक रह गए क्योंकि साक्षात्कार में उन्हें अनुपस्थित दिखा दिया गया। राजकरन का कहना है कि लिखित परीक्षा में उन्हें अच्छे अंक मिले हैं। उन्होंने इसकी लिखित शिकायत सचिव चयन बोर्ड के यहां पत्र सौंपकर किया है। अधिकारियों ने इस पर जवाब देने की जगह कहा कि यह प्रकरण बोर्ड के समक्ष रखा जाएगा। इस तरह का कार्य चयन बोर्ड ने पहली बार नहीं किया है बोर्ड इसके पहले एक छात्र को भी अनुपस्थित करार दे चुका है। उसके प्रत्यावेदन पर मानवीय भूल बताते हुए परिणाम में सुधार किया गया। यह हाल तब है जब चयन बोर्ड अंतिम परिणाम देने में लंबा समय लगा रहा है, ताकि गलतियां न हो।

जीव विज्ञान 2011 का परिणाम भी फंसा : चयन बोर्ड वर्ष 2016 टीजीटी जीव विज्ञान का विज्ञापन ही निरस्त कर चुका है। इसलिए वर्ष 2011 टीजीटी जीव विज्ञान का भी रिजल्ट जारी नहीं किया है। असल में, चयन बोर्ड ने जिस आदेश का हवाला देकर विज्ञापन निरस्त किया था वह 1998 का है।madhyamik shiksha sewa chayan board

ये भी पढ़ें : Parishadiya School Holiday on 13, 17 and 19 April 2019

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *