नियुक्ति निरस्त होने वाले 606 चयनितों को अंतिम मौका

प्रदेश के एडेड माध्यमिक कालेजों के लिए वर्ष 2013 प्रशिक्षित स्नातक शिक्षक भर्ती में चयनित 606 अभ्यर्थियों को अंतिम मौका दिया गया है, क्योंकि उन्होंने तय संस्था में कार्यभार ग्रहण नहीं किया है। विभाग ने उनकी नियुक्ति निरस्त कर दी है, अब चयनित अभ्यर्थी अपर शिक्षा निदेशक माध्यमिक प्रयागराज के कार्यालय में 30 मार्च तक लिखित आपत्ति दे सकते हैं। इसके बाद किसी तरह का प्रत्यावेदन स्वीकार नहीं होगा। यह मियाद पूरी होते ही रिक्त सीटों के सापेक्ष करीब 400 नए शिक्षकों की तैनाती दी जाएगी। उनकी काउंसिलिंग शिक्षा निदेशालय प्रतीक्षा सूची से करा चुका है।

अशासकीय सहायताप्राप्त माध्यमिक कालेजों के लिए वर्ष 2013 भर्ती में प्रशिक्षित स्नातक शिक्षक यानी टीजीटी का चयन हुआ था। माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड उप्र ने 29 दिसंबर 2013 को 6028 पदों की भर्ती शुरू की थी। उसका परिणाम 2017 में जारी हुआ लेकिन, हंिदूी, कला, वाणिज्य, शारीरिक शिक्षा, विज्ञान, उर्दू, अंग्रेजी, जीव विज्ञान, गणित, गृह विज्ञान, सामाजिक विज्ञान व संस्कृत विषय के चयनितों ने आवंटित कालेजों में कार्यभार ग्रहण नहीं किया। अभ्यर्थी इन पदों को भरने की मांग करते रहे लेकिन, उनकी अनसुनी हुई तो वे हाईकोर्ट पहुंचे और प्रतीक्षा सूची से रिक्त पद भरने के लिए याचिका दाखिल की। हाईकोर्ट ने 28 दिसंबर 2019 व 22 जनवरी 2020 को आदेश दिया कि 2013 टीजीटी भर्ती के 606 पदों को प्रतीक्षा सूची से भरा जाए। इसका जिम्मा माध्यमिक शिक्षा निदेशक को सौंपा गया। कोर्ट के आदेश पर चयन बोर्ड से संबंधित विषयों की प्रतीक्षा सूची मंगाकर माध्यमिक शिक्षा निदेशक कार्यालय में 18 से 22 फरवरी तक काउंसिलिंग कराई गई।

काउंसिलिंग में 606 पदों के सापेक्ष करीब 400 से अधिक अभ्यर्थी शामिल हुए है। उन्हें नियुक्ति देने से पहले शिक्षा निदेशक माध्यमिक विनय कुमार पांडेय ने विज्ञप्ति जारी करके पूर्व में चयनित अभ्यर्थियों को साक्ष्य के साथ प्रत्यावेदन 30 मार्च तक देने का मौका दिया है। निदेशक की ओर से कहा गया है कि पूर्व में चयनित अभ्यर्थियों की सूची वेबसाइट पर अपलोड है। इसके बाद कोई अवसर नहीं मिलेगा। माना जा रहा है कि इसके बाद प्रतीक्षा सूची के अभ्यर्थियों को नियुक्ति देने का आदेश जारी होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.